खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम – khujali ki best tablet name

खुजली के बेस्ट टेबलेट का नाम : खुजली एक असहज, परेशान करने वाली सनसनी है जो आपको अपनी स्किन को रगड़ने या खरोंचने के लिए उकसाती है।

मेडिकल भाषा में इसे “प्रुराइटस” कहते है। यह ड्राई स्किन, प्रेगनेंसी और कुछ विकारों (जैसे स्किन डिजीज या लिवर डिजीज) की वजह से हो सकती है।

खुजली वयस्कों में आम है, क्योंकि उम्र के साथ स्किन स्वाभाविक रूप से ड्राई होती चली जाती है। यह शरीर के एक क्षेत्र तक सीमित रह सकती है या पूरे शरीर में या कई अलग-अलग क्षेत्रों में हो सकती है। आपको खुजली होने के कारण के आधार पर, आपकी स्किन सामान्य दिखाई दे सकती है या लाल या खुरदरा हो सकती है या उसमें दाने या छाले हो सकते हैं।

मॉइस्चराइजर व एंटी-खुजली क्रीम/ लोशन आदि का इस्तेमाल और ठंडे पानी से नहाने से खुजली से राहत पाने में मदद मिल सकती है।

हालांकि पूरी तरह से खुजली को खत्म करने के लिए उसके कारण की पहचान और इलाज की जरुरत होती है। खुजली के उपचार में दवाएं, गीली ड्रेसिंग और लाइट थेरेपी (फोटोथेरपी) शामिल हैं।

अक्सर खुजली उन लोगों को ही होती है जो अपने शरीर को अच्छी तरह से साफ नही करते या फिर उनको जो अधिक गर्म वालें क्षेत्र में रहते है।

जब गर्मी से हमारी शरीर पसीने बनाती है तब वह ठीक ढ़ंग से सुख नही पाती है तब वह बैक्टीरिया का रूप ले लेती है

और शरीर की सबसे ऊपरी त्वचा पर चर्म रोग नामक बीमारी हो जाती है जो समान्यत: टिनिया नामक परजीवी (Parasite) से होती है जो शरीर के रगड़ खाने वालें स्थानों पर पसीने और नमी रहने के कारण होती है और शरीर में आसानी से फैलती जाती है।

शुरुआत मे ये नार्मल खुजाने तक सिमित रहती है लेकिन सही से इलाज ना किया जाये तो सफेद और लाल चकत्तों का रूप ले लेती है बाद में जलन के साथ ज्यादा से ज्यादा बढ़ने लग जाती है, जो असहनीय होती है

लेकिन डरने की कोई बात नहीं है इसका इलाज संभव है, आप घरेलु नुस्खे और होम रेमेडीज से इसका इलाज आसानी से कर सकते है।

आपको भी अगर खुजली हो गई है और आप इंटरनेट पर खुजली (Khujali)-खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम सर्च कर रहें है

तब आप इस आर्टिकल में खुजली की दवा : टेबलेट का नाम, लिस्ट और प्राइस | खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम | खुजली की क्रीम का नाम के बारें में जानने वालें है जो आपको इससे छुटकारा पाने में मदद कर सकती है।

 

खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम
खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम

 

खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम – khujli Ki Best Tablet Ka Naam

मेडिकल जगत के एलोपैथिक, हेमोपैथिक और आयुर्वेदिक में ऐसे बहुत सारें दवा और उसका उपचार है जो खुजली कम करने में मदद करती है।

जिसका प्रयोग करके आप 7 दिनों के भीतर अपने शरीर के ऊपरी त्वचा से पैरासाइट कीड़े को खतम कर खुजली से राहत पा सकते है।

आपको बता दें कि खुजली की समस्या एक गंभीर चरम रोग है यदि इसका इलाज समय रहते ना किया जाए तो यह त्वचा पर अपनी जडें जमा लेती है।

ऐसे में बहुत से लोग खुजली से छुटकारा पाने के लिए एंटी फंगल क्रीमो का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसके बावजूद भी वह पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाते।

इस आर्टिकल में आप खुजली की अचूक दवा के बारे अर्थात खुजली के घरेलू उपायों के बारे में जानेंगे, जिसकी मदद से आप इस नॉर्मल बीमारी को जड़ से खतम कर सकते है और इस उपाय को दूसरे के साथ भी साझा कर सकते है।

 

खुजली (Khujali) खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम

खुजली के किसी भी तरह के उपचार से पहले हमें खुजली होने के कारण और उसके लक्षण के बारें में पता होनी चाहिए, क्योंकि इसकी मदद से हम इस बैक्टीरिया के बारें में समझ सकते है।

खुजली कई कारणों की वजह से हो सकती है जैसे स्किन की समस्याएं, कुछ बीमारियां, नर्व डिजीज (तंत्रिका सम्बन्धी विकार), मानसिक रोग, और एलर्जिक रिएक्शंस। कभी-कभी कारण का पता नहीं चल पाता है।

खुजली से खोपड़ी, हाथ, पैर के छोटे क्षेत्र या पूरे शरीर को प्रभावित कर सकती है। खुजली बिना किसी अन्य खास लक्षण के हो सकती है

या इसके साथ कुछ अन्य लक्षण हो सकते हैं जैसे लालिमा, खरोंच के निशान, दाने या छाले, सूखी व फटी त्वचा, चमड़े जैसे या खुरदरे पैच इसमें शामिल है।

नीचे हम मेडिकल के सभी क्षेत्रों के खुजली की दवा और घरेलू उपचार का लिस्ट दिये है जो इसे ठीक करने में मदद करती है।

खुजली का उपचार क्षेत्र खुजली की दवा
अंग्रेजी दवा Able 25. and50
अंग्रेजी टेबलेट Jo Kan
अंग्रेजी क्रीम darmi Ford
आयुर्वेदिक दवा नीम के पत्तों से बनी दवा
आयुर्वेदिक क्रीम betnovate c
पतंजलि क्रीम पतंजलि जड़ी-बूटी
घर का उपचार लहसुन तुलसी उद्यान
पशुओं से बने उपचार गोमूत्र नीम के पत्ते
पेड़ पौधों से बने उपचार नींबू एवं नीम का तेल

 

खुजली के प्रकार (Type of Khujali ) – Khujli ki Tablet Name List

मेडिकल साइन्स के अनुसार खुजली के चार प्रकार की होती है जो हमारें शरीर में अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग तरहों से बैक्टीरिया के रूप में पनपकर एक सामान्य बीमारी का रूप ले लेती है जिसे ठीक समय पर इलाज़ नहीं किया गया तब वह गंभीर समस्या उत्पन्न कर देती है।

  1. टीनिया कॉर्पोरिस – ये समस्या पैरों और भुजाओ पे, पीठ पे, हाथ और पैरों की उँगलियो के बिच में और ज्यादातर बालरहित त्वचा पर होती है। ये समस्या एक से चार सप्ताह तक रहती ही है। ये समस्या एक व्यक्ति के दूसरे व्यक्ति के समर्क में आने से भी होता है।

व्यक्ति को टीनिया से बचने के लिए बहुत ज्यादा ध्यान देना पड़ता है और बैक्टीरियारोधी साबुन का सही तरीके से करना चाहिए, अगर ये समस्या आपको ज्यादा हो रही है, तो आप सबसे पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

  1. टिनिया वर्सीकोलर – ये समस्या ज्यादातर किशोरों और युवाओ को प्रभावित करती है। इसमे छोटे छोटे धब्बे पड़ते है जो ज्यादा इन्फेक्सन शरीर को नहीं पहुचाते है । ये समस्या ज्यादा पसीना आना, ओइली स्किन, ज्यादा गर्मी वाला मौसम ऐसी ही बहुत सी समस्या है जो टीनिया वर्सीकोलर पाई जाती है।
  2. टीनिया बार्बी यह चेहरे की दाढ़ी वाले क्षेत्र और गर्दन पर होता है। इसके कारण कई बार बाल टूटने लगते है। अक्सर यह नाईं के पास दाढ़ी कटवाने जाने के दौरान होता है इसलिए इसे बारबार्स इट्च (Barbar’s itch) भी कहते है।
  3. टिनिया क्रुरिस – ये समस्या ज्यादातर पुरुषो पे पाई जाती है इस समस्या में खुजली ज्यादा होती है ज्यादातर ये पैरो और जननांगो के बीच लाल धब्बा जैसा पड़ जाता है। हो सकता है कभी कभी ये शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैलता है।

इसके उपचार के लिया आप किसी भी मेडिकल स्टोर से एंटीफंगल क्रीम ले के दाग वाली जगह पे लगा सकते है, जैसे Terbinafine, Clotrimazole, Econazole ऐसी बहुत से एंटीफंगल क्रीम का आप इस्तेमाल कर सकते है।

 

खुजली कम करने का घरेलू उपाय

रैश स्किन शरीर के किसी भी एरिया में हो सकता है जिससे त्वचा में इरिटेशन और सूजन हो सकती है। कुछ रैशेज की वजह से खुजली, लाली, दर्द, जलन और फोड़े भी हो सकते हैं। एक्सपर्ट्स मानते हैं कि रैशेज कई हेल्थ प्रॉब्लम्स के कारण भी हो सकता है।

वहीं, कुछ विशेष जीन्स के लोगों को ज्यादा रैशेज की परेशानी देखने को मिल सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार इस परेशानी को कम करने में कुछ घरेलू उपायों का इस्तेमाल फायदेमंद होता है।

स्किन एक्सपर्ट्स का मानना है कि एलर्जी की वजह से त्वचा में बहुत ज्यादा खुजली होने लगती है। ऐसे में लोगों को प्रभावित जगह को छूने से बचना चाहिए। साथ ही कपूर और नारियल तेल का इस्तेमाल भी फायदेमंद होता है।

इसके उपयोग के लिए कपूर को पीस लें और नारियल तेल को उसमें मिलाएं। फिर एलर्जी वाले स्थान पर इस मिश्रण को लगाएं। इस पेस्ट को दिन में कम से कम दो बार लगाना चाहिए।

इस घरेलू उपचार के अलावा भी हम आपको कई तरह के घरेलू चीजों का प्रयोग करके खुजली मिटाने के बारें में बताने वालें है।

 

देसी घी से खुजली का घरेलु इलाज

देसी घी पुरानी दाद, खाज और खुजली मिटाने का वर्षों पुरानी घरेलू उपाय है। आप आर्टिकल शुरू से पढ़ रहें होंगे तब आपको पता ही होगा कि यह बैक्टीरिया और फंगस के कारण शरीर में हो जाती है। देसी घी में इन दोनों परजीवी को मिटाने के लिए एंटीटोक्सिन्स मौजूद होती है

जो इसे जड़ से ख़तम कर देती है। खुजली की समस्या होने पर देसी घी को हल्का गर्म करें और उसे त्वचा पर लगाकर मसाज करें। ऐसा करने से तुरंत खुजली से राहत मिलती है। इस प्रक्रिया को दिनभर में कम से कम तीन बार करें, जिससे आपको जल्द राहत मिल सकती है।

 

इमली के बीज से दाग खुजली का इलाज

अगर आप दाद, खाज, खुजली की समस्या से परेशान रहते हैं तो आपके लिए इमली का बीज एक अच्छा आयुर्वेदिक दवा साबित हो सकता हैं। इससे आपकी दाद, खाज और खुजली की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो सकती हैं।

आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक इमली का बीज एक एंटीबायोटिक का काम करता हैं। इससे त्वचा पर मौजूद बैक्ट्रिया और वायरस खत्म हो जाते हैं। जिससे खुजली और दाद की समस्या उत्पन नहीं होती हैं। साथ ही साथ दाद का फैलाव भी रुक जाता हैं। इसलिए आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसका इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले इमली के बीज को नींबू के रस में पीस लें। इसे पिसते समय पानी का इस्तेमाल बिल्कुल ना करें। जब ये लेप तैयार हो जाये तब इसे दाद, खाज और खुजली वाली जगह पर लगाएं।

 

बैंकिंग सोडा और नींबू से खुजली का उपाय

अगर आपको खुजली की समस्या हो रही है तो आप सबसे पहले नहाने के लिए साफ पानी का इस्तेमाल करें, साथ ही आप पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा और कुछ चम्मच नींबू का रस मिला सकते है।

इस घरेलू उपाय को हफ्ते में कम से कम 2 से 3 बार आजमाए।. नींबू और बेकिंग सोड़ा स्किन की स्किन से राहत पाने के लिए फायदेमंद माने जाते है।

 

कपड़ों को धूप देखाना

जब आप कभी गीले कपड़े पहन लेते है तब जिस पानी से वह कपड़ा साफ होती है उसमें छोटे-छोटे परजीवी बैक्टीरिया मौजूद होती है जो शरीर के संपर्क में आने पर दाद, खुजली का रूप ले लेती है, जिससे उस स्थान पर अक्सर खुजाहट करने का मन करता है।

ऐसा अक्सर प्राइवेट पार्ट के कपड़ो के साथ होती है, इसलिए आपको इस समस्या से बचने के लिए अपना सभी कपड़ा को पहनने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि वह पूर्ण रूप से सुख गई है, जब कपड़े को धूप में राखी जाती है,

तब उसमें मौजूद परजीवी सूर्य के किरण पानी को सोखने के साथ-साथ उसमें मौजदु अल्ट्रावायलेट किरणों  के जरिये उन पैरासाइट को ख़तम करने के काम भी करती है, इसके अलावा आप जिस बिस्तर पर सोते है उसको भी अच्छी तरह से सूखा लेना चाहिए।

 

अपने आप को साफ रखिये और दाग खुजली से छुटकारा पाए

खुजली होने के पहला कारण शरीर में मौजूद गंदगी होती है, क्योंकि इससे हमारी शरीर अलग-अलग तरह के पैरासाइट को जन्म दे देती है जो आगे चलकर खुजली का रूप ले लेती है, इसलिए आपको हर दिन अपने  शरीर के पूरे अंगों को साफ करना चाहिए और नहाने के कुछ समय बाद कपड़े पहनना चाहिए।

साबुन सर्फ घरेलू उत्पाद से नहाए पाउडर तथा क्रीम
पीयर्स नीम के पत्ते से नहाना नवरत्न पाउडर
डेटॉल डिटॉल लिक्विड डालकर मैन मास्टर पाउडर
लाइव बॉय लाइव बॉय लोकेट डालकर डेटॉल पाउडर
कीटोज पानी गर्म करके टेटमोसोल पाउडर
विदिशा कपड़े गर्म पानी से धोने एसिड पाउडर
लगन कपड़े इस्त्री करें पतंजलि क्रीम हर्बल
घड़ी डिटर्जेंट पाउडर कपड़े सर्फ डाल कर दो आयुष क्रीम

 

एलोवेरा – खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम

एलोवेरा जेल त्वचा में एलर्जी होने पर खुजली, रैशेज, जलन और दर्द जैसी दिक्कतें लोगों को हो सकती है। इन परेशानियों को दूर करने के लिए लोग एलोवेरा का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

विशेषज्ञों के मुताबिक एलोवेरा में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण पाए जाते हैं जो स्किन प्रॉब्लम्स को दूर करते हैं।

इसका प्रयोग करने के लिए आप किसी फार्म से एलोवेरा के पत्ते लेकर आए और उसके जेल को उस जगह पर लगाये, जहाँ पर आपको खुजली की समस्या हो रखी है

इसका इस्तेमाल दिन में कम से कम तीन बार करें और यह धन रखें इसमें किसी भी तरह का केमिकल का प्रयोग नही की गई हो।

 

लहसुन – खुजली पर फायदेमंद है

लहसुन में अजोइना (Ajoene) नाम एक प्राकृतिक एंटी फंगल एजेंट (Anti–fungal agent) होता है जो फंगल संक्रमण को ठीक करने में मदद करता है। लहसुन की एक फांक छीलकर उसकी पतली स्लाइस काट लें, प्रभावित क्षेत्र पर पतली स्लाइस को रखे

और उसके चारों ओर एक पट्टी लपेट लें और रात भर के लिए इसे छोड़ दें। इसकी जगह पर लहसुन के पेस्ट का भी इस्तेमाल (khujli ke upay) कर सकते हैं।

टोरुलोप्सिस, ट्राइकोपीटन और क्रिप्टोकोकस जैसे कई फंगल संक्रमणों के इलाज के लिए लहसुन को अक्सर असरदार माना गया है। आप दाद वाली खुजली के उपचार में भी इसे आजमा सकते हैं।

 

प्राइवेट पार्ट में खुजली की टेबलेट क्रीम

योनि या जननांग में खुजली (Vaginal Itching) एक बेहद सामान्य समस्या है और हर महिला को अपने जीवन में कभी न कभी इसका सामना करना पड़ता है इसकी वजह ये है कि जननांग में खुजली कई तरह की समस्याओं का संकेत है

जैसे-पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव, प्रेगनेंसी, मेनोपॉज से लेकर यीस्ट इंफेक्शन तक। बहुत से मामलों में खुजली की यह समस्या, यौन संचारित रोग STD का संकेत भी हो सकती है। इसके साथ ही पुरुषों में भी अधिकतर केस में उनके प्राइवेट पार्ट में ही खुजली होने की समस्या देखी गई है।

एक रिसर्च में यह बात साबित हुई है कि धूम्रपान करने की वजह से योनि में गुड बैक्टीरिया की संख्या कम होने लगती है, इस कारण इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है और जननांग में खुजली होने लगती है। लंबे समय तक गीले कपड़े पहनकर रखें तो इससे भी योनि की त्वचा में इरिटेशन हो सकती है

ऐसे में अगर आप बारिश या पसीने की वजह से गीली हो जाएं तो जितनी जल्दी हो कपड़े बदल लें, साथ ही जिम के कपड़े और स्विमसूट पर भी यह नियम लागू होता है। अगर आपके प्राइवेट पार्ट में दाद, खुजली हो गई और वह हर समय नोचते हुये रहता है

तब आपको Himalaya Herbals Antiseptic Cream, 20g का इस्तेमाल करना चाहिए, जो एक एंटीसेप्टिक क्रीम है। इसके इस्तेमाल से आपके स्किन पर हो रही एलर्जी, खुजली और फंगल इन्फेक्शन के लिए यह अच्छा आप्शन है। इसे आप जलने और कटने पर भी उपयोग में ला सकते हैं।

बदाम और एलोवेरा के गुणों से युक्त यह क्रीम आपके स्किन को हिल करने के साथ मॉइश्चराइज भी करती है। 20g के इस Himalayas antiseptic cream को Amazon से मात्र 110 रुपए में खरीद सकते हैं। इसके अलावा आप Ringguard Cream – 20g ले सकते है।

यह क्रीम स्किन पर होने वाले फंगल इनफेक्शन के लिए है। इसे इस्तेमाल करना बेहद आसान है केवल दिन में दो तीन बार इनफेक्टेड जगह पर लगाकर छोड़ देना होता है।

यह करीब 10 दिन तक लगाना होता है। मार्केट  से इस Ringgurd cream के 20 ग्राम के दो पैक को मात्र 176 रुपए में खरीद सकते हैं।

 

दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा Tablet

मार्केट में दाद, खाज, खुजली मिटाने का टैबलेट कई सारें मौजूद है, लेकिन वह सभी कारगर साबित नही है। हम आपको नीचे इसका अँग्रेजी दवा का नाम बताने जा रहें है जिसका प्रयोग आप टैबलेट के रूप में कर सकते है,

लेकिन ध्यान रखें ये सारी दवा आप अपने Doctor से या किसी Dermatologist से सलाह करके ही प्रयोग करें: –

  • Luliford Antifungal Tablet
  • Thyroid Strip Tablet
  • Fungi Cross Nail
  • Singh Pure Tablet
  • दाद 800 Tablet

 

पूरे शरीर में खुजली की दवा

अगर आपके पूरे शरीर में फोड़े, फुंसी हो गई है और वह बहुत नोचती है तब आप ऊपर में बताई गई घरेलू उपायों को कर सकते है अगर उससे भी यह सुधार नही होती है तब आप डॉक्टर का सलाह लेकर अच्छा इलाज़ करवा सकते है

इन सभी के अलावा आप इनमें से किसी एक दवा का इस्तेमाल कर सकते है:

  • Cetirizine
  • Fexofenadine
  • Brompheniramine
  • Loratadine
  • Diphenhydramine
  • Clemastine
  • Stop allerg 10mg tablet

 

पतंजलि खुजली की दवा – रामबाण इलाज

पतंजलि दाद की दवा में सबसे ज्यादा कायाकल्प तेल को यूज किया जाता है जिसमे पुरी तरह हर्बल तेल का उपयोग किया जाता है। इसके असरदार होने के कारण ही कुछ लोग इसे पतंजलि खुजली का तेल कहते हैं।

यह ऑयल तेज खुजली को शांत करता है साथ ही दाद के कारण होने वाले जख्मों को भी दूर करता है।

एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर ये तेल ना केवल दाद और ड्राई त्वचा की समस्या दूर करता है बल्कि इससे चर्म रोग, सोरायसिस और रंजकता के कारण होने वाले निशान एंव धब्बे भी दूर होते हैं जो यह सभी गुण पतंजलि के सभी प्रमुख दवाओं में मौजूद है। जिसका लिस्ट नीचे दी गई है:

  • कायाकल्प तेल
  • कायाकल्प वटी
  • दिव्य हरिद्रखंड टेबलेट
  • दिव्य एलोवेरा जैल
  • दिव्य सेब का सिरका

 

खुजली की टेबलेट का नाम | Khujli Ki Tablet Name In Hindi

  • सेट्रीजीन (Cetirizine)
  • फेक्सोफेनाडाइन (Fexofenadine)
  • लोरैटैडाइन (Loratadine)
  • ब्रोम्फेनिरामाइन (Brompheniramine)
  • लोरैटैडाइन (Loratadine)
  • डीफेनहाइड्रामाइन (Diphenhydramine)
  • क्लोरफेनमाइन (Chlorphenamine)
  • क्लेमास्टाइन (clemastine)
  • स्टॉप एलर्ज (Stop Allerg 10mg Tablet)

 

Khujali ke best tablet ka nam FAQ’s

Q. प्राइवेट पार्ट में खुजली की टेबलेट

अगर आपके प्राइवेट पार्ट में खुजली हो गई है तब आपको क्लोज़ोले 150 एमजी वैजाइनल टैबलेट (Clozole 150Mg Vaginal Tablet) का इस्तेमाल करना चाहिए जो स्किन के फंगल और दाद, खुजली जैसे इन्फेक्शन को जड़ से खतम करने के अचूक टेबलेट है।

Q. सुखी खुजली की दवा                                       

सूखी खुजली अक्सर त्वचा में नमी की कमी के कारण हो सकती है। ऐसे में, उन नुस्खों को अपनाया जा सकता है, जो त्वचा को नम बनाए रखने में मदद कर सकते हैं, जैसे शहद और एलोवेरा।

Q. रातों-रात खुजली को कैसे ठीक कर सकते हैं?

किसी भी समस्या को रातों-रात ठीक नहीं किया जा सकता है। हालांकि, बेहतर उपचार की मदद से कुछ दिनों में खुजली की समस्या को ठीक किया जा सकता है। अगर आपको रातों-रात इसके पैरासाइट के कीड़े को मारना है जो खुजली उत्पन्न कर रही है तब आप जालिम लोशन जैसे अँग्रेजी दवा का इस्तेमाल कर सकते है।

Q. खुजली की दवा का नाम पतंजलि

अगर आप पतंजलि के प्रॉडक्ट पर अधिक विश्वास करते है और आयुर्वेदिक तरीके से इस इन्फेक्शन को ठीक करना चाहते है तब आप इसके कायाकल्प तेल, कायाकल्प वटी,दिव्य हरिद्रखंड टेबलेट, दिव्य एलोवेरा जैल, दिव्य, सेब का सिरका का इस्तेमाल कर खुजली को जड़ से खतम कर सकते है।

Q. खुजली की क्रीम का नाम PRICE

हमने इस पोस्ट में खुजली के कई क्रीम के बारें में बताया है जिसका उपयोग आप दिन में कम से कम 3 बार उपयोग करके कर सकते है अगर हम इन स्बही क्रीम की प्राइस की बात करें तो आपको हर क्रीम कम से कम 80 रुपया से ऊपर में ही मिलेगी।

 

नोट : इस जानकारी को देने का उदेश्य विषय और समस्या से परिचित होना है। प्रिय पाठकों को अपने स्वास्थ्य के आधार पर कोई भी निर्णय लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

 

Conclusion

इस लेख में आपने खुजली की दवा : टेबलेट का नाम, लिस्ट और प्राइस | खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम | खुजली की क्रीम का नाम के बारें में जाना। आशा करते है आप खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम |khujali ki best tablet ka naam की पूरी जानकारी जान चुके होंगे

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे Social Media पर सबके साथ इसे शेयर अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस लेख को Read करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…

Leave a Comment

error: Content is protected !!