D Pharma kya hota hai | डी फार्मा की पूरी जानकारी हिंदी में

D Pharma kya hota Hai : मेडिकल एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें आपको नौकरी नही भी लगती है फिर भी आप अपने मेहनत और हुनर के दम पर मानव सेवा के साथ – साथ नौकरी से अधिक पैसा कमा सकते है।

भारत सहित दुनियाभर में मेडिकल फील्ड काफी तेजी से आगे बढ़ी है और इसमें काफी डिमांड भी बढ़ने लगें है, जिससे बहुत सारें स्टूडेंट 12th के बाद क्या करें? के सवाल में डी फार्मा कोर्स को करना पसंद करते है, क्योंकि इस कोर्स को कम समय में करने के बाद आप एक अच्छी नौकरी पा सकते है।

D Pharma एक बहुत ही अच्छी मेडिकल फील्ड का कोर्स है, जिसे आप 12वी के पढ़ाई पूरी करने के बाद कर सकते है। आप अपना कैरियर इसी क्षेत्र में बनाना चाहते है तब आप इस बेसिक कोर्स से अपनी शुरुआत कर सकते है।

आप अगर डी फार्मा कोर्स को करने की सोच रहें है और इसके बारें में पूरी जानकारी विस्तार से जानना चाहते है तब आप इस आर्टिकल में डी फार्मा क्या है? D Pharma कैसे करें? D Pharma full form | डी फार्मा कोर्स कितने साल का होता है? के बारें में विस्तार से जान पढ़ सकते है।

 

D Pharma kya hota hai | डी फार्मा
D Pharma kya hota hai | डी फार्मा

 

D Pharma kya hota hai | डी फार्मा की पूरी जानकारी हिंदी में

इसका पूरा नाम Diploma in pharmacy होता है, जिसमें आपको एक फार्मासिस्ट के तौर पर फिजीशियन के प्रिस्क्रिप्शन के हिसाब से दवाइयाँ देने के लिए फार्मेसी स्टोर्स, क्लिनिक्स ,अस्पतालों, दवाखानों और हेल्थ मैनेजमेंट ऑर्गनाइज़ेशन्स के बारें में पढ़ाई जाती है।

साथ ही आपको लैब में दवा कैसे बनाई जाती है, इसकी मार्केटिंग कैसे होती है, दवा स्टोर करने और कौन-सी दवा किस बीमारी में और किस समय दी जानी चाहिए, वो सभी बातें डी फार्मा कोर्स में पढ़ाई जाती है। आप जब इस कोर्स को कर लेते है तब आपको हर तरह के दवा के बारें में विस्तृत जानकारी हो जाती है।

मेडिकल डिप्लोमा में यह कोर्स काफी प्रचलित है और हर साल लाखों स्टूडेंट्स इस कोर्स को करते है। जो पूरे 2 वर्ष का होती है, जिसमें 4 सेमेटर होती है।

आप अगर मेडिकल शॉप खोलने का विचार कर रहें है या फिर इस क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते है तब आपके लिए यह कोर्स सबसे बेस्ट है।

 

Pharmacy meaning in Hindi – pharmacy kya hota hai

वैसा व्यक्ति जो दावाखाना (pharmacy) में रहता हो और उसके बारें में हर चीज जानता हो उसे फार्मासिस्ट कहते है। फ़ार्मेसी उसे कहते है जहाँ दवाओं का भण्डार, दुकान, क्लिनिक, लैब हो। जैसा कि हमने आपको पहले भी डी फार्मा का पूरा नाम डिप्लोमा इन फ़ार्मेसी बताया था।

जब आप इस कोर्स को करते है तब आपको फ़ार्मेसी यानि दवाओं के बारें में पढ़ाई कराई जायेगी। जिसमें आपका काम होगा दवाइयों से जुडी जानकारियां जैसे दवाइयों का इस्तेमाल कैसे करना है,

उनके क्या प्रभाव है और वो किस तरह काम करती हैं, ये जानकारियां मरीज़ों और कस्टमर्स को देना। हेल्थकेयर से जुड़े मरीज़ों के सभी सवालों के जवाब साथ ही ड्रग थेरापीज़ से जुड़े परामर्श भी आपको देने होंगे।

 

D Pharma ka full form Hindi

D pharma full form ” डिप्लोमा इन फ़ार्मेसी होता है  जो फ़ार्मेसी का बेसिक कोर्स है। अन्य कोर्स की तरह इस मेडिकल फील्ड में अधिक जानकारी प्राप्त करने के बाद आपको इसके बाद बी फार्मा और उसके बाद एम फार्मा जैसी कोर्स को करनी होगी।

यह एक प्रोफेशनल डिप्लोमा कोर्स है जिसे किसी भी स्टूडेंट्स के द्वारा बिना किसी इंटेरेंस एक्जाम के सीधे कॉलेज में प्रवेश करने का अवसर मिलती है,

जिसे आप अपनी 12 th की पढ़ाई ख़तम करने के बाद कर सकते है। जिसे किसी सरकारी या प्राइवेट कॉलेज से फ़ार्मेसी की पढ़ाई पूरी किया जा सकता है।

 

डी फार्मा Course कैसे करे

इसके लिए आपको सबसे पहले विज्ञान विषय के साथ 12th की पढ़ाई पूर्ण करनी होगी, जिसमें आपकी मार्क्स प्रतिशत कम से कम 50% से कम नही होनी चाहिए। उसके बाद आप इंटरेस्ट एक्जाम देकर सरकारी कॉलेज में नामांकन करवा सकते है।

किसी-किसी सरकारी कॉलेज में आपको बिना इंटेरेंस एक्जाम के भी एड्मिशन हो जाती है, अगर नही होती है तब आप अपने शहर या राज्य के किसी बढ़िया कॉलेज में नामांकन करवाएँ, जहाँ आप प्रत्येक दिन क्लास करने जा सकते है और फ़ार्मेसी की पढ़ाई कर सकते है।

 

D Pharma करने के फायदे

अब बात आती हैं कि D Pharma करने से फायदे क्या क्या होते आईये इसके फायदे के बारे मे जानते हैं। जो निम्न हैं : –

  • डी फार्मा करने के बाद आप खुद का मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं।
  • Scientific officer बन सकते हैं।
  • सरकारी जॉब्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • Pharmacists कंपनी मे जॉब्स पा सकते हैं
  • किसी क्लिनिक मे अच्छा जॉब कर सकते हैं।

 

D Pharma ke liye Qualification

फ़ार्मेसी में कैरियर बनाने के लिए इसका शुरुआती कोर्स डी फार्मा काफी अच्छा साबित हुई है और इस कोर्स को करने के बाद लाखों स्टूडेंट्स ने जॉब हासिल किया है या फिर अपनी मेडिकल शॉप का व्यापार शुरू किया है, आप भी अगर इस बेसिक कोर्स को करना चाहते है तब आपको इसका क्वालिफ़िकेशन पता होनी चाहिए।

  • सबसे पहले आपको 10th 50% से अधिक मार्क्स के साथ पास करना होगा।
  • उसके बाद 12th में PCB (physics, chemistry, biology) या फिर PCM (physics, chemistry, mathematics) में 50% से अधिक मार्क्स से पास करना होगा।
  • अगर आप किसी बढ़िया कॉलेज में और बेटर रैंक वालें कॉलेज में एड्मिशन करवाना चाहते है तब मार्क्स का प्रतिशत अधिक होनी चाहिए।
  • इस तरह आप विज्ञान विषय से इंटरमिडिएट की परीक्षा पास करने के बाद डी फार्मा कोर्स को करने के लिए कॉलेज में एड्मिशन ले सकते है।

 

D Pharma ki fees kitni hai

कोर्स फी इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस तरह के कॉलेज से इसकी पढ़ाई करना चाहते है। अगर आप इंटेरेंस एक्जाम जैसे UPSEE, GPAT, JEE Pharmacy, AU AIMEE को क्वालिफ़ाई करके इस कोर्स को करना चाहते है तब आप इसे किसी भी सरकारी कॉलेज से कम फीस के साथ कर सकते है।

इसके लिए आपको 45000 हजार तक दोनों साल का रुपया लगेगा, लेकिन इसके लिए आपको ऊपर में बताई गई किसी भी इंटेरेंस एक्जाम को क्लियर करना होगा, तब ही आपको किसी सरकारी कॉलेज में दाखिला दिया जा सकता है।

अगर आप डायरेक्ट एक प्राइवेट कॉलेज से बिना किसी एक्जाम के इसकी पढ़ाई करना चाहते है, तब आपको 1 लाख पहले साल और 1 लाख रुपए दूसरे साल तक का देनी पर सकती है। यह निर्भर इस बात पर करती है कि आप किस रैंकिंग वालें कॉलेज में नामांकन लेने की सोचे है।

अपनी भविष्य की सुरक्षा के लिए एक बात ध्यान रखें, जब भी किसी प्राइवेट या गवर्नमेंट कॉलेज में एड्मिशन करवाएँ, उससे पहले कॉलेज डायरेक्टर के साथ फीस के बारें में पूरी बातें अवश्य करें, क्योंकि ऐसा देखा गया है कि कॉलेज स्टूडेंट्स से कोर्स खतम हो जाने के बाद अधिक रुपया का डिमांड करने लग जाते है।

 

डी फार्मा एडमिशन

डी फार्मा कोर्स में एडमिशन का प्रोसेस हर कॉलेज का अलग अलग होता है कुछ कॉलेज में डायरेक्ट एडमिशन मिल जाता है तो कुछ कॉलेज एंट्रेंस एग्जाम लेने के बाद मेरिट लिस्ट के आधार पर ही एडमिशन देते हैं। अब यह आप पर डिपेंड करता है कि आप किस तरह के कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं।

अगर आप एंट्रेंस एग्जाम देकर डी फार्मा एडमिशन चाहते हैं तो आप निम्न में से किसी एक एंट्रेंस एग्जाम को देखकर डी फार्मा में एडमिशन दे सकते हैं। नीचे हम उन सभी इंटेरेंस एक्जाम का लिस्ट दे रहें है, जिसकी मदद से इसमें नामांकन करवाया जा सकता है: –

  • CPMT
  • PMET
  • GPAT
  • UPSEE
  • AU AIMEE
  • JEE PHARMACY

 

D Pharma kitne saal ka hota hai

डी फार्मा मेडिकल फ़ार्मेसी कोर्स पूरे दो साल का होता है, जिसमें पूरे 4 सेमेस्टर्स होती है और आपको 13 सब्जेक्ट के बारें में इसमें पढ़ाई करनी होती है। जब आप अपना नामांकन वर्ष 2022 में इस कोर्स को करने के लिए किसी भी गवर्नमेंट या प्राइवेट कॉलेज में करवाते है,

तब आपकी कोर्स सत्र 2022 – 24 होगी। इस तरह आपको वर्ष 2024 में डी फार्मा कोर्स करने के बाद फार्मासिस्ट की उपाधि मिल जाती है और आप इसके डिग्री पर जॉब पा सकते है।

 

डी फार्मा सब्जेक्ट

यह डिप्लोमा कोर्स पूरे दो सालों का होती है, जिसमें चार सेमेस्टर्स की पढ़ाई आपको करनी होगी। इसमें आपको 13 सबजेक्ट्स को पढ़ना होता है। जो दोनों कोर्स अवधि के दौरान पूरी करनी होती है। नीचे उन सभी सब्जेक्ट का नाम दिया गया है: –

  1. 1st Year में आपको 5 सब्जेक्ट पढ़ने होते हैं।
  2. 2nd Year में भी 8 सब्जेक्ट पढ़ने होते हैं।

 

डी फार्मा सब्जेक्ट फ़र्स्ट इयर

First Year पहली साल
Subject Name English विषय नाम हिंदी
Pharmaceutics 1 फार्मसूटिक्स 1
Pharmaceutical chemistry 1 फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री 1
Biochemistry clinical pathology बायोकेमिस्ट्री क्लीनिकल पैथोलॉजी
Human anatomy physiology ह्यूमन एनाटोमी फिजियोलॉजी
Health education community pharmacy हेल्थ एजुकेशन कम्युनिटी फार्मेसी

 

डी फार्मा सब्जेक्ट सेकंड इयर

पहला साल दूसरा साल
Subject Name English विषय नाम हिंदी
Pharmaceutics 2 फार्मास्यूटिकल 2
Pharmaceutical chemistry 2 फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री 2
Pharmacology toxicology फार्माकोलॉजी टॉक्सिकोलॉजी
Pharmaceutical jurisprudence फार्मास्यूटिकल जुरीसप्रूडेंस
Drug store business management ड्रग स्टोर बिज़नेस मैनेजमेंट
Hospital clinical pharmacy हॉस्पिटल क्लीनिकल फार्मेसी
Antibiotics एंटीबायोटिक्स
Hypnotics हाईपनोटिक्स

 

Top D Pharma College in India

आप जिस भी कॉलेज में इस कोर्स को करने के लिए नामांकन करवाना चाहते है तब आपको एक बात ध्यान रखनी होगी कि वह कॉलेज इंस्टीट्यूट फार्मेसी कॉन्सिल ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त है, या नही साथ ही वह NIRF और NAAC से कॉलेज रैंक और मान्यता प्राप्त कर रखी है या नही ?

नीचे इस लिस्ट में कुछ सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज के नाम बताई गई है जो भारत की टॉप फ़ार्मेसी कॉलेज है: –

  • दिल्ली इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च, नई दिल्ली
  • जे एस एस कॉलेज ऑफ फार्मेसी, मैसूर
  • D Y पाटिल इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस एंड रिसर्च, पुणे
  • अन्नामलाई विश्वविद्यालय, अन्नामलाई नगर
  • ISF कॉलेज ऑफ फार्मेसी
  • बिहार कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पटना
  • SLT इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंस
  • इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी, जलपाईगुड़ी
  • श्री अरबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ फार्मेसी, इंदौर
  • PSG कॉलेज ऑफ फार्मेसी, कोयम्बटूर
  • गोवा कॉलेज ऑफ फार्मेसी, पणजी
  • जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी
  • बी के मोदी गवर्नमेंट फार्मेसी कॉलेज, राजकोट
  • चितकारा कॉलेज ऑफ फार्मेसी, राजपुरा
  • NIMS यूनिवर्सिटी, राजस्थान

 

डी फार्मा के बाद नौकरी

Career Option In D Pharma Course जैसा कि आपको पता चल गई होगी कि यह एक डिप्लोमा कोर्स है, जिसमें फ़ार्मेसी के बारें में पढ़ाई जाती है। जब आप इसके पढ़ाई को पूर्ण कर लेते है तब आप इसके डिग्री के बदौलत नौकरी पा सकते है, आप चाहे तो नौकरी के अलावा अपना खुद का फ़ार्मेसी का व्यापार शुरू कर सकते है।

  • सकरकारी और प्राइवेट क्षेत्र में फार्मासिस्ट
  • ड्रग इंस्पेक्टर
  • ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव
  • मेडिसिन मार्केटिंग
  • मेडिकल स्टोर
  • मेडिकल एजेंसी
  • रिसर्च सेंटर
  • साइंटिफिक ऑफिसर
  • प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव

ऊपर में बताई गई सभी कैरियर ऑप्शन में आपको डी फार्मा कोर्स करने के बाद मौका मिल जाती है। साथ ही असिस्टेंट फार्मासिस्ट के तौर पर आपको अस्पताल के फार्मेसी स्टोर या रिटेल फार्मेसी स्टोर में नौकरी के अवसर मिल सकते हैं।

अगर आप केमिस्ट, ड्रगिस्ट या फार्मासिस्ट के तौर पर अपना खुद का व्यवसाय करना चाहते हैं तो आपको फार्मेसी काउंसिल ऑफ़ इंडिया (पीसीआई) के नॉर्म्स के तहत खुद को रजिस्टर करवाना होगा। आपको अपने रजिस्ट्रेशन को लगातार सालाना फीस देकर रिन्यू करवाने की ज़रुरत भी पड़ेगी।

 

D Pharma सैलरी | जॉब्स | नौकरी की पूरी जानकारी

जब आप डी फार्मा कोर्स को कर लेते है तब आप फार्मासिस्ट के नाम से जानने लगते है। आप जब इसके रूप में नौकरी करने का विचार कर रहें है तब आपको एक बात ख्याल रखना होगा कि जॉब प्रोफाइल और काम करने के लिए आपको मिलने वाली सुविधाओं के अनुसार वेतन भिन्न हो सकती है।

आपकी वेतन भी इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस कंपनी, शॉप, रिसर्च सेंटर इत्यादि में मिलकर नौकरी करते है। इसकी शुरुआती सैलरी 12 हजार रुपया से 28 हजार रुपया तक हो सकती है। आप काम करने के अनुभव होने के बाद इसमें वृद्धि भी होती है।

जब आपको फार्मासिस्ट के रूप में 1 साल से 6 साल तक का अनुभव प्राप्त हो जाती है तब आपको 15 हजार से 30 हजार प्रतिमाह या इससे अधिक वेतन  दिया जा सकता है। इससे अधिक अनुभव प्राप्त करने के बाद आपको 20 हजार से 35 हजार या इससे अधिक का सैलरी हर माह दिया जा सकता है।

 

डी फार्मा कैरियर ग्रोथ

एक फार्मासिस्ट के तौर पर अनुभव लेने के बाद आप किसी हेल्थ केयर फैसिलिटी (वो स्थान जहाँ स्वास्थ्य की  देखभाल से जुडी सर्विसेज़ दी जाती हैं जैसे क्लिनिक्स या अस्पताल) या छोटे /मध्यम स्तर की फार्मासीज़ में काम करके अपने करियर में आगे बढ़ सकते हैं।  आप फार्मासिस्ट से सीनियर फार्मासिस्ट और स्टोर मैनेजर जैसे बड़े पदों तक पहुंच सकते हैं।

भारत के हेल्थ केयर सेक्टर में काम करने वालों की संख्या बढ़ेगी।  इसके 2013 के 35. 9 लाख से 2022 तक 74 लाख तक पहुंचने की उम्मीद है, ये पहले से मौजूद संख्या से काफी ज़्यादा है। 2022 तक प्रैक्टिस कर रहे फार्मासिस्ट्स की मांग 3,77,000 होगी जबकि 2017 में ये 3,00,000 थी।

फार्मास्युटिकल इंडस्ट्री में टैलेंट को पहुँचाना (उदाहरण :- डी फार्मा, बी फार्मा, एम फार्मा, बी एससी) चीन और दूसरे  देशों के मुकाबले ज़्यादा आसान है। डी फार्मा का कैरियर ग्रोथ हमेशा के लिए लम्बे समय और एक बढ़िया कैरियर ऑप्शन में से एक है।

 

D Pharma ke baad kya kare

डिप्लोमा में फ़ार्मेसी कोर्स को पूरा करने के बाद अगर इसकी वास्तविकता जॉब के रूप में देखी जाएँ तो वह कम है, लेकिन आप इसे करने पर किसी मेडिकल स्टोर पर नौकरी कर सकते है या फिर अपना खुद का फ़ार्मेसी शॉप खोल सकते है।

अगर आप सोच रहें है कि दो साल की डिप्लोमा इन फ़ार्मेसी कोर्स करने के बाद सरकारी नौकरी आसानी से पाया जा सकता है तो यह वास्तव में सही नही है, अगर इसके रूप में गवर्नमेंट या किसी बढ़िया फ़ार्मेसी प्राइवेट कंपनी या रिसर्च सेंटर में नौकरी करना चाहते है

तब आप डी फार्मा करने के बाद B. Pharma यानि bachelor of pharmacy कोर्स को कर सकते है, जिसे आप 12थ के बाद भी कर सकते है, लेकिन यह बैचलर कोर्स चार साल की होती है और आप डायरेक्ट 12th के बाद बी फार्मा में नामांकन करवाते है

तब आपको इसे पूरे चार साल में पूरा करना होगा, तो वही आप अगर पहले से डी फार्मा कोर्स कर रखें है तब ईसे तीन साल में ही पूर्ण कर सकते है। जिसमें आपको 6 सेमेस्टर पूरा करना होगा और फ़ार्मेसी के बारें में विस्तार से पढ़ना होगा।

 

FAQ’s D Pharma (डी फार्मा)

सवाल :- डी फार्मा के फर्जी संस्थानों की पहचान कैसे करें?

इसकी पहचान करने के लिए आपको विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की वेबसाइट पर जाकर कॉलेज या यूनिवर्सिटी पेज पर क्लिक करने के बाद जिस भी कॉलेज में नामांकान करवा रहें है उसका नाम यहाँ देख सकते है, अगर यहाँ पर आपकी कॉलेज का नाम शो नही करती है तब वह संस्थान फर्जी है।

इसके अलावा आप NIRF और NAAC की वेबसाइट पर जाकर अपनी कॉलेज का रैंक या ग्रेड पता कर सकते है, लेकिन यह जरूरी नही है कि इन दोनों सरकारी संस्थान के साइट पर आपकी कॉलेज का नाम हो, क्योंकि इसमें देश के टॉप कॉलेज का नाम अधिक शामिल किया जाता है।

सवाल :- D Pharma या B Pharma दोनो में से कौन सा कोर्स अच्छा है?

ओबियसली बी फार्मा कोर्स डी फार्मा कोर्स से बेहतर है क्योंकि एक डिप्लोमा और एक बैचलर डिग्री जारी करती है और आपको पता ही होगा कि डिप्लोमा के बाद ही बैचलर होती है, इसलिए बी फार्मा इससे बेहतर है और यह उससे अधिक बेस्ट कैरियर स्कोप बनकर तैयार कराती है।

सवाल :- D Pharma के बाद B Pharma कैसे करें?

जैसे ही आप डी फार्मा कोर्स को पूर्ण कर लेते है और उसका डिग्री प्राप्त कर लेते है तब आप चाहे तो उसी कॉलेज में बी फार्मा कोर्स को करने के लिए एड्मिशन ले सकते है या फिर आपको जो कॉलेज पसंद आयें उसमें नामांकन करवाया जा सकता है।

हमने आपको पहले बताया था कि बी फार्मा कोर्स पूरे चार साल की बैचलर कोर्स होती है, लेकिन जब आप डी फार्मा करके इसका बैचलर कोर्स करना चाहते है तब आप इसे सिर्फ तीन साल में ही पूर्ण कर सकते है, जैसे ही आप बी फार्मा में एड्मिशन करवाते है और वहाँ अपना डी फार्मा का डिग्री बताते है आपको डायरेक्ट सेकंड इयर में नामांकन कर दी जाती है।

सवाल :- D Pharma की फीस कितनी होती है?

दो साल की यह फ़ार्मेसी डिप्लोमा कोर्स अगर आप इंटेरेंस एक्जाम पास करके गवर्नमेंट कॉलेज में एड्मिशन लेते है तब आपको कोर्स पूरा होने तक 45 हजार तक का फीस देनी पर सकती है, तो वही इसे किसी प्राइवेट कॉलेज से डायरेक्ट एड्मिशन करते है तब 2 लाख तक का फीस देनी पड़ेगी।

सवाल :- क्या डी फार्मा में सिक्योर कैरियर बनाया जा सकता है?

मेडिकल क्षेत्र की हर कोर्स सिक्योर कैरियर प्रदान करती है, अगर आप इसे कर लेते है तब आप नौकरी की तलाश कर सकते है या फिर इसका वेकेन्सी आने पर आवेदन दे सकते है। आप चाहे तो फार्मासिस्ट के रूप में मेडिकल शॉप खोल सकते है या फिर छोटी तौर पर डॉक्टर का काम भी शुरू कर सकते है।

 

Conclusion

इस आर्टिकल में आपने D Pharma kya hota hai | डी फार्मा की पूरी जानकारी हिंदी में के बारें में जाना। आशा करते है आप D Pharma Kya hai कोर्स के बाद यंहा पर मिलेगी जॉब की पूरी जानकारी जान चुके होंगे।

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे Social Media पर सबके साथ इसे शेयर अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस आर्टिकल को रीड करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…

Leave a Comment