बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे (2022) दूसरी शादी करने के नियम

हमारे देश के कई धर्म और जातियों के लोग रहते है और उनमें शादी को लेकर कई कायदे कानून हैं कही धर्म मे पारिवारिक रिवाज होते है।जिनमे बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे उसके लिए कई प्रावधान है।

मुस्लिम धर्म की अगर बात करे तो यह धर्म में बिना तलाक लिए दूसरी शादी करने की अनुमति देता है।

वही दूसरे धर्म की अगर बात करे तो हिन्दू, बौद्ध, या दूसरे किसी भी धर्म मे बिना तलाक दूसरी शादी करना किसी भी कायदे में नही है।

अब आपके मन मे सवाल आता होगा की तो फिर बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे। हम आपको बताएंगे की बिना तलाक शादी करने के प्रावधान क्या है।

 

बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे
बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे

 

बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे

कहि बार आपने देखा होगा पति पत्नी के बीच झगड़ा हो जाता है और वह अपने मायके चली जाती हैं | बाद में अगर आप उस मामले में तलाक लेने की सोचते है

कही बार पत्नी तलाक देना नही चाहती और आप तलाक लेकर दूसरी शादी करना चाहते हो तो उस समय दिमांग में एक ही सवाल आता है कि बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे।

अगर आप तलाक के बिना शादी करते हो तो क्रिमिनल अफेन्स का गुनाह माना जाता है।

वह इसीलिए की आप जब तक तलाक़ नही देते तब तक आप शादीशुदा होते हैं और पत्नी की मर्जी से हुई तलाक के बिना आप दूसरी शादी नही कर सकते।

कीसी भी पुरूष या महिला का किसी कारण मृत्यु होती है इस मामले में बिना तलाक महिला या पुरूष शादी कर सकते है

जो हम सब जानते है इस बाद पर समाज या प्रशासन की ओर से किसी भी तरह का रोक नही होता है। यह बिना तलाक दूसरी शादी करने का एक कारण हो गया है

अब दूसरा कारण आपको बताते हैं अगर आपके तलाक का केस कोर्ट में चल रहा है

सबसे पहले आपको बता दे शादी के संबधित किसी भी तरह की समस्या है या तलाक की बात होती हैं तो इसका फैसला कोर्ट के द्वारा किया जाता है जो मान्य रहता है।

पति पत्नी के बीच झगड़ा होता है और उसका केस कोर्ट में चलता है तब अगर तलाक़ का फैसला भी कोर्ट मंजूर करता है तो तभी कही तरह के फैसले पत्नी के पक्ष में लिए जाते है

जैसे की पति की ओर से पत्नी को हर महीने हरजाना देना पड़ता है अगर पति पत्नी से तलाक नही चाहता सिर्फ पत्नी चाहती हैं फिर भी इस मामले में यह प्रावधान है कि पति को पत्नी को हर महीने हरजाना देना पड़ता है।

फिर भी इस बात पर जिक्र करे कि बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे तो आपको बता दें कि जब तलाक का केस कोर्ट में चल रहा होता है तब कोर्ट की ओर से किसी भी करण विवाह को रद्द कर दिया जाता है तो इस मामले में बिना तलाक दिए दूसर शादी कर सकते है।

कही ऐसे मामले कोर्ट मैं चलते हैं और ऐसी परिस्थितियों में कोर्ट द्वारा विवाह को पहले ही रद्द कर दिया जाता है। यानी तलाक की कोई जरूरत नहीं है। जिससे आप बिना तलाक लिए दोबारा शादी कर सकते हैं।

अदालत द्वारा विवाह को रद्द करने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कम उम्र में शादी, पति या पत्नी में से किसी एक के लिए मानसिक संतुलन की कमी कुछ भी कारण हो सकते है।

शादीशुदा जिंदगी में कई ऐसी तकलीफे और समस्या अचानक आती है और कभी न कभी पति पत्नी के बीच की तकलीफे तलाक़ का कारण बन जाती हैं।

 

बगैर तलाक के किसी स्त्री की शादी का अधिकार

आज से पद्रह साल पहले की बात करे तो उस समय यह होता था कि बिना तलाक लिए शादी करना पाप माना जाता था या कानून के खिलाफ माना जाता था और परिवार की ओर से ही उसे बिना तलाक दूसरी शादी करने के परवानगी नही मिलती थी

लेकिन अगर आज की बाते करे तो आपके मन मे कभी भी यह विचार आए की बिना तलाक लिए दूसरी शादी कैसे करे तो उसके लिए भी एक बेहद महत्वपूर्ण बात है कि आपने देखा ही होगा पत्नी को बिना बताए पत्नी दूसरी महिला के रिलेशनशिप में रहते हैं और उससे प्यार करते हैं बात शादी तक पहुँच जाती है

और तभी दूसरी शादी बिना तलाक लिए कैसे करे यह सवाल आता है तो इस मामले में अगर पत्नी अपने पति को दूसरी शादी करने कि अनुमति बिना तलाक लिए देती हैं तो इस मामले में पति दूसरी शादी कोर्ट के द्वारा कर सकता है

अगर पत्नी बिना तलाक अनुमति देती हैं तो इस मामले में भी दूसरी शादी हो सकती हैं।

लेकिन फिर भी पत्नी की ओर कागजाती कारवाही वकील द्वारा होनी बेहद जरूरी होती हैं क्योंकि अगर ऐसा नही होता तो इससे गैरकानूनी तरीके से शादी करना माना जाता है और पति को कम से कम पांच साल की सजा हो सकती हैं।

आपको एक बात फिर से बता दें कि हमारे देश मे कई संभवित प्रावधान है जिसके जरिए आप बिना तलाक दूसरी शादी कर सकते हैं  हम अक्सर ऐसे किस्से देखते हैं

 

दूसरी शादी करने पर क्या सजा होती है

अब आपको बता दे अगर कोई भी व्यक्ति अपनी पत्नी होने के बावजूद दूसरी शादी करते हैं तो क़ानूनी तौर पर क्या कार्यवाही हो सकती हैं

वैसे तो बिना तलाक दूसरी शादी करना गैरकानूनी है इसे आईपीसी की धारा 494 के तरह अपराध माना जाता है

और दोषी को सात साल तक कि सजा हो सकती हैं लेकिन इस सजा का मतलब यह नही की आपको सात साल तक जैल में रहना पड़ेगा दोषी को कोर्ट की ओर से आसानी से जमानत मिल जाती हैं।

लेकिन उसके बावजूद आप दूसरी पत्नी के साथ नही रह सकते क्योंकि जब आपको जमानत मिलती है

उस दौरान कोर्ट की ओर से आपको कुछ सीमा तक अनुमति देता है जिसमे आप पहली पत्नी को तलाक देना पड़ेगा उसके बाद आप दूसरी पत्नी के साथ शादी कर सकते है।

भारत देश मे हर रोज़ तलाक स जुड़े कही केस दर्ज होते है जिनमे में कई केस प्रेम संबध के कारण सामने आते है उसके बाद पति अगर किसी ओर से रिलेशनशिप होने की खबर पत्नी को पता चलती है और मामला ज्यादा आगे बढ़ने पर पत्नी अपने पति से तलाक लेकर अलग हो जाती हैं

और पति अपने प्रेम संबध रही महिला से शादी कर सकता है वो इसीलिए क्योंकी उन्होंने तलाक लेकर शादी की होती हैं

और अगर पत्नी को बिना बताए पति उस महिला से शादी करता है तो उनकी पहली पत्नी अपने पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सकती हैं और पति को सजा भी हो सकती हैं

आपको बता दें कि भारतीय कानून व्यवस्था में ऐसा कोई प्रावधान हिन्दू, और बौद्ध धर्म मे नही है कि बिना तलाक दूसरी शादी कर सकते है।

आज के समय मे लव मैरिज करना कानूनी तौर पर मान्य होता है  लेकिन दूसरी शादी हरगिज़ मान्य नही मानी जाती हैं।

कही सवाल होते है जब लोग ऐसी परिस्थितियों में फंसते है और अपनी शादीशुदा जिंदगी में इतने परेशान हो जाते है की अपनी पत्नी होने के बावजूद उसके दिमांग में एक ही खयाल आता है कि बिना तलाक दूसरी शादी कैसे करे

 

बिना तलाक दूसरी शादी करने के लिए धर्म परिवर्तन के कानून

दोस्तों कहि लोग यह सोचते है कि अगर धर्म परिवर्तन कर के दूसरी शादी करना बड़ा ही आसान है। लेकिन आपको बता दें कि हमने भारत मे ऐसे कई धर्म परिवर्तन के केस देखे है

जिनको गैरकानूनी माना जाता है यानी के अगर आप हिन्दू है और आप मुस्लिम में धर्म परिवर्तन करते हैं

और इसके पीछे का मकसद शादी है तो इससे गैरकानूनी माना जाता है। क्योंकि कानून के खिलाफ जाकर धर्म परिवर्तन करना वह किसी भी धर्म के लिए योग्य तरीक़ा नही माना जाता।

हमारा देश संस्कृति आचरण और समृद्धि से भरा है इस देश मे महिलाओं के लिए अनेक कायदे व्यवस्थाएं बनाई गई है।

और महिलाओं के लिए सम्मान पहले माना जाता है इस मामले में जब किसी भी महिला को बिना बताए दूसरी शादी करना वह उनके सम्मान का अपमान भी है

ऐसे में कानून कभी किसी भी पुरुष को पत्नी की मर्जी के बिना दूसरी शादी करने की इजाज़त नही देता है अगर पुरूष दूसरी शादी करना चाहता है तो वह कानूनी तौर पर एडवोकेट के द्वारा तलाक ले सकता है।

दूसरी ओर महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर वह विधवा है और दूसरी शादी करना चाहती है तो उसको किसी भी आधार की जरूरत नही होती वह अपनी मर्जी से शादी कर सकती हैं।

 

पति या पत्नी के लापता के बाद बिना तलाक दूसरी शादी करने का प्राविधान

कही बार पति या पत्नी अलग कुछ काम से रह रहे है और अचानक दोनों अलग हो जाते है यानी के लापता हो जाते है

दोनों में से एक लापता होने पर पुलिस शिकायत दर्ज होने के बाद अगर सात साल से ज्यादा समय के बावजूद अगर पति या पत्नी लापता रहते हैं तो दूसरी शादी कर सकते है

जैसी की अगर पति लापता हैं तो पत्नी दूसरी शादी कर सकती हैं और आगे पत्नी लापता है तो पति बिना तलाक दूसरी शादी कर सकते है इस मामले में तलाक होने के सबूत की जरूरत नही होती। यह कानूनी तौर पर सही माना जाता हैं।

 

बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करते है

भारतिय सविधान के तौर पर दूसरी शादी बिना तलाक नामुमकिन है लेकिन कई रास्ते हैं जिनके जरिए लोग दूसरी शादी कर के अपने जीवनसाथी के साथ जिंदगी मजे से गुजारते है

फिर आपको बता दें इसमें शादी को लेकर धर्म का सबसे बड़ा महत्व है क्योंकि हर धर्म मे शादी को लेकर अलग-अलग नियम बनाए गए हैं मुस्लिम धर्म एक ऐसा धर्म है जहां पुरूष दूसरी शादी आसानी से कर सकते है।

वही हिन्दू धर्म मे सख्त नियम बनाए गए हैं अगर हिन्दू धर्म का पुरूष दूसरी शादी करता है तो कानून के नियमों के सिकंजे में फस जाता है इसके अलावा दसूरे धर्म मे भी दूसरी शादी को लेकर कई सख्त नियम बनाए गए है

अगर धर्म को देखते हुए बिना तलाक दूसरी शादी कैसे कर सकते हैं तो धर्म के अनुसार जिस धर्म मे दूसरी शादी करने की इजाज़त कानून देता है उस धर्म मे धर्म परिवर्तन कर के दूसरी शादी आसानी से कर सकते है

लेकिन आपको बता दें सिर्फ एक ही व्यक्ति धर्म परिवर्तन कर यह जरूरी नही है पूरे परिवार की अनुमति भी बेहद जरूरी है

क्योंकि हालही में हमने कई पुरुषों को देखा है जो कानूनी तौर पर दोषी ठहराया है

क्योंकि बीना परिवार की अनुमति धर्म परिवर्तन करना गैरकानूनी माना जाता है लेकिन अगर शादी की बात है तो वह मुस्लिम बनकर दूसरी शादी कर सकते है।

 

आपसी मान्यता से बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे

हमने कहि किस्से ऐसे भी सुने है जो एक पुरुष दूसरी महिला के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहता है और अपनी पत्नी को बिना बताए उसे धोखा देता है लेकिन अगर पत्नी भी दूसरे पुरूष के लिव इन रिलेशनशिप में है

और बाद में दोनों को पता चलता है और दोनों की अनुमति से पति दूसरी महिला के साथ रह सकता है और पत्नी भी दूसरे पुरूष के साथ रह सकते है

कही बार लिव इन रिलेशनशिप इतना लंबे समय तक चलता है कि दोनों को शादी करने के जरूरत नही पड़ती क्योंकि दोनों की अनुमति से सारी चीजें हो रही हैं

वही अगर दूसरी ओर देखा जाए तो पत्नी और पत्नी दोनों बिना तलाक लिए दूसरी महिला और पुरूष के रिलेशनशिप में रह सकते है लेकिन शादी बिना तलाक नही कर सकते है।

मुंबई जैसे शहरों में हमने कई ऐसे लोग देखे हैं जो पत्नी की अनुमति से पति दूसरी महिला के साथ रिलेशनशिप होता है तो पत्नी भी दूसरे पुरूष के रिलेशनशिप में होती हैं

यह आज के दौर में आम बात है इसके अलावा रोज़ सेकड़ो तलाक होते है और शादियां होती हैं कही ऐसे लोग भी भारत मे रह रहे है जो तलाक ले-लेकर पांच शादियां कर चुके है और यह कानूनी तौर सही माना जाता है।

आज के अगर सामाजिक जीवन के बारे में बात करे तो आज हर समाज और हर धर्म मे किसी न किसी समस्या से लोग जूझ रहे है सबसे ज्यादा समस्या परिवारिक होती हैं

साथ ही इस महँगाई के जमाने मे कई लोगों को घर चलाना तक मुश्किल हो जाता है वैसे में जिनके बच्चे ज्यादा होते हैं उनको घर खर्च चलाना मुश्किल हो जाता है

और घर मे कमाने ने वाला कोइ नही होता आपने देखा होगा कई पति ऐसे होते है जो कुछ काम नही करते कहि पत्नी को घर चलाने के लिए काम करने के लिए मजबूर होना पड़ता है

ऐसी त्रासदी घर के माहौल में पत्नी दूसरी शादी के बारे में सोचती हैं और ऐसी स्थिति में जब घर मुश्किल से चलता वो उस मामले में पत्नी के पास ऐसा रास्ता नही अपनाती जैसी उसे कानूनी तौर सही माना जाए वह बिना तलाक दूसरी शादी के बारे में सोंचती है।

 

बिना तलाक दूसर शादी करने के प्रावधान है

अगर आप अपनी पत्नी को बिना बताए दूसरी शादी करते तो और जिससे आप शादी करते हो उनसे आप ये बात छुपाते हो कि आप पहले से शादीशुदा है फिर भी यह गैरकानूनी तरीके शादी मानी जाती हैं

और इस मामले में आपको आईपीसी एक्ट 495 के तहत अपराध माना जाता है और दश साल तक कि सजा हो सकती है और जुर्माना भी देना पड़ता है दोस्तो आसान से तरीके होते हैं

  • दूसरी शादी करने के जो हम पहले बता चुके हैं जैसे कि अगर लंबे समय से पति या पत्नी लापता हैं तो बिना तलाक शादी कर सकते हैं
  • दूसरा तरीके अगर किसी कारण पति या पत्नी को मृत्यु होती हैं तो बिना तलाक शादी कर सकते हैं
  • और तीसरा  धर्म परिवर्तन कर के आप दूसरी शादी कर सकते हैं।

 

बिना तलाक दो पत्नी रख सकते है

आपको बता दें कई बॉलीवुड हस्तियों को देखा होगा जो दो पत्नियां रखते हैं इसके अलावा बड़े बिजनेसमैन होते हैं वो भी दो पत्नियां रखते हैं

लेकिन अगर फ़िल्म इंडस्ट्री के कलाकारों की बात करे तो उनके लिए दूसरी पत्नी रखना आम बात है और उसकी लाइफस्टाइल आम लोगो से काफी अलग है लेकिन फिर भी आप दूसरी पत्नी रख सकते है

अगर पति पत्नी के बीच सहमति अच्छी है तो कुछ पत्नियां पति को दूसरी महिला के साथ रहने की अनुमति देती हैं फिर भी हर पुरूष और महिला यह चाहते है बिना तलाक दूसरी शादी कैसे कर सकते है

दोस्तो दूसरी शादी को अपराध तब माना जाता है जब आपकी पहली पत्नी आपके खिलाफ दूसरी शादी करने की शिकायत दर्ज करती है

अगर आपकी पत्नी आपके खिलाफ़ आपकी दूसरी शादी को लेकर किसी भी तरह की शिकायत नही करती है तो इससे अपराध नही माना जाता इसलिए पत्नी का भरोशा बेहद मायने रखता है दूसरी पत्नी रखने के लिए।

दूसरी बात अगर दोनों पत्नियों के बीच साझेदारी होती समझदारी से दोनों इस मामले को अनुमति देते हैं तो पति दूसरी पत्नी रख सकता है।

हमने कई लोगों को दूसरी पत्नी रखते देखा है चाहे फ़िल्म इंडस्ट्री की बात हो या कॉरपोरेट क्षेत्र की बात हो,कही लोगो दो पत्नी के साथ मजे से जिंदगी जीते हैं लेकिन उसके लिए हमने जो बताया उस तरीकों से संभव हो सकता है।

बिना तलाक़ दूसरी शादी करने का विचार जभी मन मे आता है तो एक बात का खयाल जरूर रखे कि आपकी पत्नी का आप पर कितना भरोसा है

क्योंकि एक बात आपको मुद्दे की बता दें कि सबसे बेहद जरूरी होता है पति पत्नी का एक दूसरे पर भरोसा होना अगर आपको लगता है कि आप आपकी पत्नी दूसरी शादी करने कि अनुमति देती है तो आप दूसरी शादी कर सकते हैं

 

बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे जानना है तो इसे ध्यान से पढ़े

अक्सर दूसरी शादी को अपराध तब माना जाता है जब शिकायत दर्ज होती है, पति की पत्नी के खिलाफ या,पत्नी की पति के खिलाफ, आपको पहले ही बताया कि अगर आप अपनी पत्नी को बताकर शादी करते हैं और आपकी पत्नी और दूसरी पत्नी के बीच समझौता हो जाता है

तो आप दूसरी शादी कर के अपनी जिंदगी आसानी से जी सकते है इस मामले में कई सवाल ऐसे भी होते है अगर बच्चे हो तो उस मामले में क्या करे,तो उसके लिए भी एक दूसरी शादी संभव है

अगर आपके बच्चे हैं और पति पत्नी के बीच अनबन चल रही हो, अलग रह रहे हो और पति अपने बच्चों का और पहली पत्नी का हर्जाना उठाना है

यानीके जिम्मेदारी उठाता और पहली पत्नी अपने पति को दूसरी पत्नी रखने की अनुमति देती हैं तो पति दूसरी पत्नी के साथ रह सकते हैं जब तक यह मामला कानून के नजर में नही आता क्योंकि इस मामले में अगर पत्नी को किसी भी तरह हर्ज या समस्या नही है

तो कानून बिना शिकायत दर्ज की पति के खिलाफ कार्यवाही नही कर सकती

अगर कानून की नजर में यह मामला सामने आता है तो कानून बिना शिकायत दर्ज के पति के खिलाफ कार्यवाही कर सकती हैं और अगर पत्नी सामने आकर उसकी अनुमति से उसका पति दूसरी महिला के साथ रहता है

उस बात का खुलासा करती हैं तो पति दूसरी पत्नी के साथ रह सकता है। फिर भी यह अपराध है हमने जो बताया उस तरह से कई तरीकों से दूसरी शादी करते है

लेकिन पत्नी का भरोसा सबसे जरूरी होता है क्योंकि जब तक पत्नी या पति बिना तलाक दूसरी शादी करने के अनुमति नही देती तो दूसरी पत्नी या पति के साथ रहना असंभव है।

बाकी हमने पहले ही बता दिया है कि बिना तलाक़ दूसरी शादी कैसे करे और उनके प्रावधान क्या है।

 

 

conclusion

आजकल की मोर्डन लाइफ में सब कुछ संभव है तो कही जगहों पर असंभव भी है। आज की युवापीढ़ी जिस दौर से आगे बढ़ रही हैं उसके देखकर लगता है कि आज की जनरेशन के सामने दूसरी शादी न होने की समस्या कुछ भी नही है।

लोग लव मैरिज करते है फिर अपने जीवनशैली में किसी तरह की समस्या आ जाती है और दोनों के बीच तलाक़ हो जाता है फिर दूसरी शादी कर लेते हैं।

हमारी माने तो अगर आप अपनी शादीशुदा जिंदगी में खुश नही है और पति पत्नी दोनों अपनी जिंदगी अच्छे से जी नही सकते हैं उनको अपने बच्चों की जिम्मेदारी को समझकर कानूनी तौर से तलाश लेकर दूसरी शादी करनी चाहिए।

क्योंकि अक्सर लोग दूसरी शादी के बारे में तब सोचते हैं जब उसकी चल रही शादीशुदा जिंदगी में खुश नही होते है | फिर गैरकानूनी काम कर के दूसरी शादी करने से बेहतर होता है कानूनी तौर तरीकों से दूसरी शादी करना |

ताकि भविष्य में किसी को भी जीवन में कभी भी किसी भी तरह की समस्या से जूझने की नौबत न आये

लेकिन यदि आप अपने जीवन साथी को तलाक नहीं देना चाहते है लेकिन तलाक के बिना दूसरी शादी करना चाहते है तो बेशक आप के मन ने बिना तलाक के दूसरी शादी कैसे करे जैसा सवाल आते होंगे तो उसका सटीक जवाब हमने उप्पर दिए लेख में विस्तार में प्रदान किया है|

जिसे शुरवात से अंत तक जरूर पढ़े और इस विषय संबंधित कोई भी सवाल आपके मन में होगा तो निचे कमेंट करना ना भूले जिसका हम जरूर जवाब देंगे

error: Content is protected !!