एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा – Allergy khansi ki ayurvedic dawa

एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा : आप सभी लोग जानते होंगे कि बदलते मौसम में अकसर एलर्जी होना आम बात है जैसे-जैसे मौसम बदलता जाता है, एलर्जी के लक्षण धीरे-धीरे दिखने लगते हैं फिर चाहें सर्दी का मौसम हो या फिर गर्मी का, बरसात का मौसम हो या फिर बदलते मौसम का हो

बदलते मौसम में वायरल संक्रमण से ग्रसित होने से बहुत सी परेशानी होने लगती है

एलर्जी की वजह से दिनचर्या का भी सर्वनाश हो जाता है ऐसे बहुत से लोग होंगे जिनको ये जानने में बहुत ही ज्यादा मुश्किल होती होगी कि, होने वाली सर्दी खांसी किसी एलर्जी की वजह से है या फिर ये किसी बीमारी की निशानी है

तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम सभी जानेंगे एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा और जानेंगे कि ऐसे कौन से लक्षण होते हैं जिससे हम सभी एलर्जी का पता लगा सकें और ये भी जान सकें कि कौन सी आयुर्वेदिक दवा से एलर्जी बाली खांसी को दूर कर सकते हैं

 

Allergy khansi ki ayurvedic dawa
Allergy khansi ki ayurvedic dawa

 

एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा | Allergy khansi ki Ayurvedic Dawa

आमतौर पर होने वाली खांसी–जुखाम कुछ वक्त बाद सही हो जाती है परंतु कभी-कभी ऐसा भी होता है कि खांसी–जुकाम बहुत दिनों तक रहती है

 

अंगूरासव है एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा

अंगूरासव है एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा

 

अंगूरासव एक ऐसी आयुर्वेदिक दवा है जो एलर्जी खांसी में तुरंत आराम देगी, अंगूरासव सिर्फ खांसी को ठीक नहीं करता ये शरीर को ताकत भी प्रदान करता है क्योंकि अंगूरासव में ऐसे तत्व होते हैं जो एक टॉनिक का काम करते हैं अंगूरासव एलर्जी, बैक्टीरिया संक्रमण खांसी आदि को भी सही कर देता है

अंगूरासव हमारे फेफड़ों को मजबूत और स्वस्थ रखने में भी मददगार साबित हुआ है और ये काफी हद तक फेफड़ों को सुधार भी देता है, अंगूरासव शरीर के इम्यूनिटी को भी काफी हद तक बढ़ा देता है

हम आपको बता दें कि अंगूरासव 100 प्रतिशत आयुर्वेदिक है, इस आयुर्वेदिक दवा को पतंजलि की तरफ से बनाया गया है इस आयुर्वेदिक दवा में प्राकृतिक जड़ी बूटियों का इस्तेमाल हुआ है

अंगूरासव का सेवन आप खाने के बाद कर सकते हैं


मुलेठी है एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा

मुलेठी है एलर्जी खासी की आयुर्वेदिक दवा

 

खांसी को दूर करने के लिए मुलेटी भी एक बेहतर आयुर्वेदिक दवा है, मुलेठी का सेवन करने से खांसी जड़ से खत्म हो जाती है

मुलेठी का सेवन पाउडर के रूप में किया जाता है इसके सेवन से खांसी, बलगम और गले की खराश को बहुत हद तक दूर करने में कारगर साबित हुआ है

 

मुलेठी को हम सभी लिकोरिस भी कह सकते है

मुलेठी नाम से अगर आप नहीं समझ पा रहे कि ये कौन सी आयुर्वेदिक दवा है तो आप मुलेठी को मीठी लकड़ी से जान सकते हैं क्योंकि मुलेठी को मीठी लकड़ी भी कहा जाता है

मुलेठी जड़ी बूटी का सेवन करने के लिए 1 चम्मच मुलेठी पाउडर को 1 गिलास गर्म पानी में डाल कर मिलाए और पूरे दिन में मुलेठी पर पानी के मिश्रण को 2 बार पिएं

मुलेठी का काढ़ा भी खांसी को दूर कर सकता है


पिप्पली से होता है सर्दी खांसी का निवारण 

पिप्पली से होता है सर्दी खांसी का निवारण 

पिप्पली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो सर्दी और खांसी को सही करता है आयुर्वेदिक की जड़ी बूटी के अध्धयन से मालूम पड़ा है कि सामान्य सर्दी के रूप में होने वाला सिरदर्द में राहत प्रदान करता है

पिप्प्ली गले के बलगम को ढीला करता है और फिर उस बलगम को बहार निकाल देता है बलगम को बहार निकलने से सांस लेने में भी कोई भी दिक्कत नहीं होती है खांसी आनी बंद हो जाती है

अगर तब भी आपको राहत न मिले तो आप डॉक्टर के पास जाकर अपनी परेशानी बता सकते हैं


सोंठ है एलर्जी खांसी का इलाज 

सोंठ है एलर्जी खांसी का इलाज 

सोंठ एक लोकप्रिय आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है सोंठ के अनेकों ऐसे फायदे हैं जिससे तुरंत फायदा मिल जाता है खांसी और जुखाम में आराम पाने के लिए आप सोंठ को शहद के साथ सेवन करें इससे आपको बहुत ज्यादा आराम मिल सकता है

सोंठ गले की खराश को दूर करने में भी बहुत मददगार साबित हुआ है

¼ चम्मच सोंठ को एक चम्मच शहद में मिलाए और अच्छी तरह से मिलाने के बाद दिन में कम से कम 2 बार सेवन करें और याद रखिए कि यही कार्य आपको 3 दिनों तक करना होगा


गिलोय है वायरल शर्दी खांसी का इलाज

 

गिलोय है वायरल शर्दी खांसी का इलाज 

 

गिलोय एलर्जी को दूर रखने में मदद करता है गिलोय जिसको हिंदी में आप गुडुची या अमृता भी कह सकते हो, गिलोय जो सुपारी के समान होते हैं और इनके पत्तों का आकार दिल की तरह होता है

गिलोय टॉन्सिलिटिस और सर्दी को प्रबंधित करने में भी बहुत ज्यादा मदद करता है

गिलोय से भी हमारे शरीर की इम्यूनिटी बढ़ती है जो हमारे शरीर के लिए लाभदायक है गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है, एलर्जी से बार-बार होने वाली खांसी और साथ में गले की खराश को बहुत हद तक कम करने में मदद करता है

गिलोय सबसे ज्यादा असर सुबह के वक्त करती है तो गिलोय का इस्तेमाल सुबह उठ कर खाली पेट गिलोय की गोली गरम पानी के साथ लेने से इसका असर बहुत जल्द ही दिखने लगता है


तुलसी है सर्दी खांसी का इलाज 

तुलसी है सर्दी खांसी का इलाज 

 

तुलसी आयुर्वेदिक की नजरों में सबसे असरदार जड़ी बूटी है, तुलसी को जड़ी बूटी की रानी भी कहा जाता है और आयुर्वेदिक में तुलसी को प्रकृति की मां भी कहा जाता है

तुलसी के पत्ते खांसी से लड़ने के साथ-साथ सर्दी से लड़ने की शक्ति को बढ़ाने में मदद करती है, तुलसी के सेवन से हमारे शरीर के बहुत से रोग सही हो सकते है, तुलसी पूरी तरह से आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका सेवन हमारे शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद रहता है

तुलसी हमारे शरीर के एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करती है जिससे शरीर में हो रहे किसी भी संक्रमण से लड़ा जा सकता है, तुलसी खांसी को आसानी से दूर कर सकती है तुलसी बलगम को पूरी तरह से बाहर निकलने में काफी मदद करती है

रोज सुबह उठने के बाद तुलसी के 5–6 पत्ते चबाए, तुलसी का सेवन करने के लिए आधे कप पानी में तुलसी के ताजे पत्ते डालें और 9–10 मिनट तक मध्यम आंच में उबालें फिर छलनी के सहारे पानी को छान लें फिर पानी में नीबू का रस निकाल कर डालें और अच्छी तरह से मिलाएं और गरम पानी को धीरे धीरे पिएं इससे आपको खांसी–जुखाम में आराम मिलेगी

ऊपर अभी हम सभी ने जाना एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा तो आइए जानते हैं कि ऐसे कौन से लक्षण है जिससे एलर्जी वाली खांसी का पता चल जाता है


एलर्जी वाली खांसी के लक्षण

  • छाती में दर्द
  • त्वचा पर लाल चकत्ते
  • मुंह, जीभ और होंठ पर सूजन
  • बीपी (Blood Pressure) कम होना
  • सिर दर्द और उल्टी की समस्या
  •  गले में दर्द
  • गले में खुजली होना
  • खांसी होना
  • नाक में खुजली होना
  • कान में खुजली होना
  • गले में बहुत अधिक खराश होना
  • नाक बहना
  • नाक बंद हो जाना
  •  छींकें आना

अभी ऊपर हम सभी ने जाना कि एलर्जी से होने वाले लक्षण

तो चलिए अब हम सभी जानते हैं कि एलर्जी से होने वाली परेशानी को हम सब कैसे दूर कर सकते है


एलर्जी खांसी के घरेलू उपाय

  • अजवाइन का पानी है सर्दी खांसी का घरेलु उपाय 

 

अजवाइन का पानी है सर्दी खांसी का घरेलु उपाय 

 

आमतौर पर कभी भी अगर आप एलर्जी खांसी से ग्रसित होते होंगे तो आपके घर के लोग आपको अजवाइन का पानी पीने के लिए कहते होंगे हम आपको बता दें कि अजवाइन का पानी पीने से हमारे शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है

अजवाइन का पानी हमारे शरीर से हानिकारक बैक्टीरिया को नष्ट करने में मदद करता है अजवाइन का पानी बलगम को कम करने में भी बहुत ही ज्यादा मददगार साबित हुआ है

अजवाइन का पानी छाती, गले की सूजन को भी कम करता है और साथ में गले और छाती की सिकाई भी करता है

आपको एक गिलास पानी में आधा चम्मच अजवाइन को अच्छे से मिला कर धीरे धीरे पीना है और याद रहे कि दिन में 2–3 बार अजवाइन के पानी का सेवन करना हैं


  • मेथी के दाना का पानी है सर्दी खांसी का घरेलु उपाय 

 

मेथी के दाना का पानी है सर्दी खांसी का घरेलु उपाय 

 

मेथी के बीज औषधि के गुणों से बहुत ही ज्यादा भरपूर होते हैं और हम आपको बता दें कि अगर आप मेथी के दानों का पानी पीते हैं तो इस घरेलू उपाय से आप छाती से बलगम को निकाल सकते हैं

मेथी के दानों में ऐसे आहार होते हैं जो खांसी को भी दूर करता है और संक्रमण के बैक्टीरिया को पूरी तरफ से मार देता हैं, मेथी के दानों का पानी शरीर के इम्यूनिटी को मजबूत भी करता है और मौसम के बदलने से हो रही सर्दी–खांसी से बहुत जल्द ही छुटकारा दिला देता है

 

एक चम्मच मेथी के दाने आपको 250 ml पानी में डालने हैं और फिर थोड़ी देर तक उबालने हैं इसके बाद उबले हुए मेथी के दानों को छान लेना है और हल्का सा ठंडा करने के बाद थोड़ा थोड़ा पीना है, याद रहें आपको दिन में 2–3 बार करना है इससे आपको सर्दी खांसी में आराम मिलेगा और आपके अंदर के बैक्टीरिया भी नष्ट हो जायेंगे

 


  • शहद में काली मिर्च है सर्दी खांसी का इलाज 

 

शहद में काली मिर्च है सर्दी खांसी का इलाज 

 

अगर आपको तेज खांसी हो तो आप शहद का सेवन कर सकते हैं इससे आपको खांसी में बहुत ही हद तक आराम मिल सकती है

शहद में अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीबैक्टीरियल और एंटीइन्फ्लेमेटरी होता है जो सर्दी–खांसी को दूर कर देता है

अगर आप चाहते हैं कि आपकी सर्दी–जुखाम, सूजन, कफ और गले की खराश से छुटकारा पाना है तो आप शहद में काली मिर्च मिलाकर सेवन करे

रोजाना दिन में 2–3 बार 1 चम्मच में थोड़ी सी काली मिर्च डालकर सेवन करें इससे आपको बहुत जल्दी ही राहत मिलेगा 


  • अदरक और तुलसी है सर्दी खांसी से छुटकारा देने का कारगर इलाज 

 

अदरक और तुलसी है सर्दी खांसी से छुटकारा देने का कारगर इलाज 

 

अकसर जब भी घर वालों को मालूम पड़ता है कि घर के परिवार में किसी को भी सर्दी खांसी है तो वह चाय पीने को कहते हैं, चाय पीने से सर्दी खांसी छूमंतर हो जाती है तो आप अदरक और तुलसी की चाय पीजिए

इससे आपको तुरंत आराम मिलेगी क्योंकि अदरक और तुलसी में एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटी-इन्फ्लेमेटरी जैसे गुण होते हैं जो सर्दी–खांसी में बहुत ही ज्यादा आराम प्रदान करती है

अगर आप चाहते हैं कि एलर्जी से होने वाली खांसी आपकी सही हो जाए तो आप अदरक और तुलसी की चाय का सेवन करे ये सर्दी-खांसी को सही करने का रामबाण उपाय है

खांसी–जुखाम, सर्दी जैसी समस्याओं को पूरी तरह से हटाने के लिए आप अदरक और तुलसी का सेवन करे और हो सके तो अदरक और तुलसी की चाय बनाए या फिर काढ़ा बनाकर पीये, ये दोनों रूप में आपको सही कर सकता है


  • पुदीने का तेल है सर्दी खांसी का इलाज 

पुदीने का तेल है सर्दी खांसी का इलाज 

 

कभी भी अगर खांसी जुखाम होता है तो लोग कहते हैं कि भाप लेने से खांसी जुखाम सही हो जाता है तो आपको बस पुदीना के तेल की 2–3 बूंद पानी में डाल कर दिन में 2–3 बार भाप लें

इससे आपको बहुत हद तक आराम मिल सकता है क्योंकि भाप में ऐसे तत्व होते हैं जो नाक में जमे बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है जो संक्रमण पैदा करते हैं और हम आपको बता दें कि पुदीना के तेल की भाप लेने से आपके गले से लेकर फेफड़ों की सफाई और सिकाई भी कर देता है

पुदीना के तेल का भाप लेने से गले की खराश से भी बहुत ज्यादा आराम मिलता है और खांसी में भी बहुत हद तक आराम मिलता है


एलर्जी खांसी से कैसे करें बचाव

  1.  नाक बंद होने पर तुरंत भाप लें
  2.  ठंडी चीजों से परहेज़ करें
  3.  पोष्टिक आहार लें
  4.  बड़ी घास और परागण वाले फूलों से अधिक दूरी बनाए रखें
  5.  स्वच्छ जगह पर ही रहें
  6.  अपने आप को प्रदूषण से दूर रखें
  7.  धूल से बचें
  8.  अपने आप को हमेशा सक्रिय रखने के लिए रोज योग करें और किसी भी प्रकार का व्यायाम करें
  9. जिन लोगों को खांसी–जुखाम है उससे अधिक से अधिक दूरी बनाएं रखें
  10.  अपने आंख, नाक,ओर चहरे को छूने से बचें
  11.  खांसी होने के बाद पानी ज्यादा से ज्यादा पिएं और गर्म चाय का सेवन करें
  12. संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथ को ज्यादा से ज्यादा देर तक धोएं

FAQs : एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा

 

सवाल : एलर्जी खांसी के लक्षण?

  1. छाती में दर्द
  2. त्वचा पर लाल चकत्ते
  3. मुंह, जीभ और होंठ पर सूजन
  4. बीपी (Blood Pressure) कम होना
  5. सिर दर्द और उल्टी की समस्या
  6. गले में दर्द
  7. गले में खुजली होना
  8. खांसी होना
  9. नाक में खुजली होना
  10. कान में खुजली होना
  11. गले में बहुत अधिक खराश होना
  12. नाक बहना
  13. नाक बंद हो जाना
  14. छींकें आना

सवाल : जड़ी बूटी की रानी कौन सी जड़ी बूटी को कहा जाता है?

जड़ी बूटी की रानी तुलसी को कहा जाता है

सवाल : आयुर्वेदिक में प्रकृति की मां किसे कहा गया है?

तुलसी को आयुर्वेद में प्रकृति की मां कहा गया है

सवाल : एलर्जी खांसी के घरेलू उपाय?

  • अजवाइन का पानी
  • मेथीदाना का पानी
  • शहद में काली मिर्च
  • अदरक और तुलसी
  • पुदीने का तेल

सवाल : एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा?

अंगूरासव, मुलेठी, पिप्पली, सोंठ, गिलोय, तुलसी


Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न विशेषज्ञों के अध्ययन और राय के साथ-साथ आम आदमी के स्वास्थ्य पर आधारित है। इस जानकारी को देने का उद्देश्य विषय से परिचित होना है। पाठकों को अपने स्वास्थ्य के आधार पर कोई भी निर्णय लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Conclusion

आज के इस आर्टिकल में हम सभी ने जाना एलर्जी खांसी की आयुर्वेदिक दवा, आज ये भी जाना कि एलर्जी खांसी को घरेलू उपाय से कैसे दूर कर सकते हैं, साथ में ये भी जाना कि कौन-कौन सी आयुर्वेदिक दवा होती हैं जो एलर्जी खांसी को दूर कर सकती हैं

हम आशा करते है कि आपको आज का ये आर्टिकल पसंद आया होगा, अगर आपका कोई भी सुझाव हो तो आप comment box में अपना सुझाव लिख सकते हैं और आप अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं

error: Content is protected !!