कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए (Calcium ki Goli Kab khana Chahiye)

आज का हमारा विषय होने वाला है कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए और इसका प्रयोग कैसे किया जाना चाहिए और किन-किन शारीरिक समस्याओं में इसका प्रयोग होना चाहिए।

हमारे शरीर की लगभग सभी हड्डियां कैल्शियम की बनी होती है जबकि हमारे दांतो में कैल्शियम कार्बोनेट होता है और कैल्शियम फास्फेट होता है, जो इन्हें मजबूती प्रदान करता है।

एक स्वास्थ्यवर्धक शरीर के लिए उसकी हड्डियों का मजबूत होना बेहद आवश्यक है, यह किसी भी व्यक्ति की शारीरिक स्थिति को बताती है।

कभी-कभी हमारे शरीर में किसी कारणवश कैल्शियम की कमी हो जाती है और इसकी खानापूर्ति के लिए हमें कई बार कैल्शियम की गोलियों को भी खाना पड़ता है, जो कि इस कमी पूर्ति को पूरा करती है, तो आज के इस लेख में हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले हैं।

यह कैल्शियम की गोलियां हमारे शरीर में कैल्शियम की पूर्ति को किस प्रकार से पूर्ण करती है ,और इनका प्रयोग करते समय कौन-कौन से प्रकार की सावधानियां हमें रखनी चाहिए ताकि इसका प्रयोग करने से हमारे शरीर पर किसी प्रकार का नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़े।

 

कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए (Calcium ki Goli Kab khana Chahiye)

 

Calcium ki Goli Kab khana Chahiye
Calcium ki Goli Kab khana Chahiye

 

कैल्शियम की गोली कब लेनी चाहिए

आमतौर पर यह देखा जाता है कि सभी प्रकार की दवाइयों को खाने के बाद ही लिया जाता है, लेकिन कई बार कुछ दवाइयां ऐसी भी होती हैं जिन्हें सोने से पहले या खाने से पहले भी लेना पड़ता है तो उस प्रकार की दवाइयों में कैल्शियम की गोली भी एक प्रमुख हैं।

कैल्शियम की गोलियों को खाने से पहले लिया जा सकता है परंतु इसके साथ हमें गरम दूध भी पीना पड़ता है ताकि कैल्शियम की गोलियों का कोई नुकसान ना हो।

साथ ही जो व्यक्ति कैल्शियम की गोलियों को रोजाना ग्रहण करते हैं उन्हें इस गोली को रात्रि भोजन के बाद ग्रहण करना चाहिए या उन्हें दोपहर का खाना खाने के बाद इसका प्रयोग करना चाहिए

ताकि शरीर पर इसका किसी प्रकार से नकारात्मक प्रभाव ना पड़े और यह हमारे शरीर को कैल्शियम की कमी पूर्ति पूरा करने में मदद करें।

कैल्शियम की गोली यदि कोई व्यक्ति हमेशा प्रयोग ना करके कभी कभार इसका प्रयोग करता है तो उन्हें इसका प्रयोग किसी गर्म पेय पदार्थ के साथ करना चाहिए।

 

कैल्शियम की गोली (टेबलेट) खाने के फायदे और नुकसान

हर सिक्के के दो पहलू हैं होते हैं, उसी प्रकार से यदि हम इन दवाइयों का प्रयोग करते हैं, तो इसके भी अलग-अलग प्रभाव हो सकते हैं, तो हम देखते हैं कि क्या कैल्शियम गोली खाने के फायदे हैं और क्या कैल्शियम की  गोली खाने के नुकसान है।

हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण शारीरिक अंगों में हड्डियों का महत्वपूर्ण योगदान होता है, यदि यह हड्डियां मजबूत है तो हमारा शरीर भी मजबूत कहलाता है अगर यह हड्डियां कमजोर हैं तो हमारा शरीर भी कमजोर हो जाएगा ,जो कि इसकी शारीरिक प्रगति को भी रोकता है,

अत: जो सबसे पहला फायदा कैल्शियम की गोलियों का है, वह यह है कि यह हमारी शरीर की हड्डियों को मजबूत करती हैं, क्योंकि हमारे शरीर की हड्डियां कैल्शियम से बनी होती है,

अतः किसी प्रकार की हड्डियों में कैल्शियम की कमी होने पर यह कैल्शियम की गोलियां इस कमी पूर्ति को पूरा कर उन हड्डियों को वापस से तंदुरुस्त करती हैं

ताकि वे हमारी शारीरिक प्रगति में अपना योगदान दे सकें, साथ ही हमें यह भी ध्यान रखना है कि कैल्शियम की गोली को कब लेना चाहिए


कैल्शियम की गोलियां खाने का दूसरा फायदा

यह है कि यह हमारे वजन को भी नियंत्रित करती है और साथ ही इसे बढ़ने से रोकती है। हमारी हड्डियों के ऊपर जो मांसपेशियां होती हैं उनमें भी कुछ ना कुछ मात्रा कैल्शियम की होती है, अतः जब हम कैल्शियम की गोलियां ग्रहण करते हैं तो यह कैल्शियम की गोलियां मांसपेशियों में होने वाली इस कमी को भी पूरा करती हैं

ताकि हमारा वजन बढ़ने से रुके क्योंकि हमारा वजन पूर्णता इन्हीं मांसपेशियों के फुलाव और हमारे शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा होने के कारण बढ़ता है।


कैल्शियम की गोलियां खाने का तीसरा फायदा

यह है कि यदि किसी व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है तो इन गोलियों से उसे भी निजात मिलेगी।

हाई ब्लड प्रेशर का तात्पर्य है कि हमारे हार्ट से जो रक्त फिल्टर हो रहा है वह उच्च गति और उच्च मापक से हो रहा है

जिससे कि हमारे शरीर में कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होती हैं। अगर हम इन कैलशियम की गोलियों का प्रयोग उच्च रक्तचाप का उपचार करने में करते हैं तो भी यह फायदेमंद हैं

क्योंकि हमारे रक्त में कैल्शियम और आयरन की मात्रा होती हैं जो कि उच्च रक्तचाप की समस्या से हमें मुक्ति दिला सकती हैं।


कैल्शियम की गोलियां खाने का चौथा फायदा

यह है कि यदि किसी व्यक्ति को जोड़ों का दर्द सता रहा है या उसे हड्डियों में बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है तो इससे भी उसे कैल्शियम की गोलियां निजात दिला सकती हैं,

लेकिन कई बार हड्डियों का दर्द किसी अन्य कारण से भी हो सकता है जैसे कि इन हड्डियों में कैल्शियम कार्बोनेट की कमी होना है या अन्य पोषक तत्व की कमी होने पर भी इन हड्डियों में दर्द होना सामान्य बात है।

यदि यह हड्डियों का दर्द कैल्शियम की कमी से हो रहा है तो हमें कैल्शियम की गोलियों का प्रयोग करना चाहिए ताकि हमें इसका पूर्ण रूप से उपचार मिल सके।


कैल्शियम की गोलियां खाने का पांचवा फायदा

यह है कि यह हमारे शरीर मेटाबोलिक की क्रियाओं को सही रखती हैं। हमारे शरीर के भीतर अनेक प्रकार की रासायनिक क्रियाएं चलती रहती हैं

जिन्हें मेटाबॉलिक एक्टिविटीज कहा जाता है, इनके संपन्न होने में भी कई सारे पोषक पदार्थों और अन्य बाहरी प्रधातो का योगदान होता है,

उनमें कैल्शियम भी एक प्रमुख पोषक पदार्थ है, जो इन क्रियाओं को संपन्न करने में मदद करता है और हमारे शरीर को आंतरिक तौर पर भी यह मजबूत बनाता है।

 

कैल्शियम की गोली खाने के नुकसान

जैसा कि हम सभी जानते हैं यदि किसी भी पदार्थ का प्रयोग बहुत अधिक मात्रा में किया जाएगा तो यह में उपचार देने के बजाय कोई अन्य बीमारी दे जाएगा।

इसका प्रमुख यह कारण होता है कि हम इन दवाइयों का प्रयोग बिना किसी सोचे समझे या  बिना किसी से सलाह लिए करते हैं और हमें यह भी पता नहीं होता है कि इन कैलशियम की गोलियों का प्रयोग कब करना चाहिए और इन कैल्शियम की गोली को कब लेना चाहिए।

कैल्शियम की गोलियां खाने का पहला नुकसान यह है, कि यदि हम इसका प्रयोग बहुत अधिक मात्रा में करते हैं, तो यह हमारी हड्डियों को मजबूत बनाने की बजाय उन्हें कमजोर भी कर देता है

क्योंकि यदि हम बहुत ज्यादा कैल्शियम का सेवन करेंगे तो यह हमारे हड्डियों में छोटे छोटे छिद्र का निर्माण कर देगा जिससे हड्डियां आंतरिक तौर पर बहुत ज्यादा कमजोर हो जाएगी

और इनमें बहुत ज्यादा दर्द होने लगेगा। इससे यह होता है कि बहुत ज्यादा कैल्शियम की गोली का सेवन करने से हड्डियों पर कैल्शियम की अतिरिक्त परत का जमाव हो जाता है

जो कि हमारे शरीर के अंदर बनने वाले कैल्शियम जो की हड्डियों में बनता है उस पर नकारात्मक रूप से प्रभाव डालता है।


कैल्शियम की गोलियां खाने का दूसरा नुकसान

यह है कि यह कभी-कभी  प्रोस्टेट कैंसर को भी बढ़ावा दे सकता है जो कि हमारे प्राइवेट पार्ट्स पर सीधा असर डालता है

इन कैलशियम की गोलियों से इन में सूजन आ सकती है और धीरे-धीरे यह प्रोस्टेट कैंसर को भी बढ़ावा दे सकते हैं अतः हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हमें कैल्शियम की गोली कब लेनी है और उसे किस प्रकार से प्रयोग करना है।


कैल्शियम की गोलियां खाने का तीसरा नुकसान

यह है कि यह हमारे शरीर में पथरी को भी बना सकती है, जिससे कि हमें मूत्र मार्ग में अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है

और कई बार इसका इलाज केवल ऑपरेशन द्वारा संभव होता है क्योंकि यह पथरिया हमारे मूत्रमार्ग से बाहर आने में असंभव होती है

तो यह कैल्शियम की गोलियां हमारे शरीर में अतिरिक्त कैल्शियम की मात्रा जमा होने पर हमारे मूत्रमार्ग के आसपास छोटे-छोटे स्टोंस के रूप में जमा होने लगती हैं और जब हम मूत्र का त्याग करते हैं तो इनमें बहुत ज्यादा दर्द होता है जो की असहनीय मात्रा में होता है।


कैल्शियम की की गोलियां खाने का चौथा नुकसान

यह है कि या कई बार हमारे पेट में दर्द को उत्पन्न करती है क्योंकि कैल्शियम के छोटे-छोटे कणों का जमाव हमारे आमाशय की ऊपरी परतों में हो जाता है

और जब हम भोजन का पाचन कर रहे होते हैं उस समय इन में दर्द उत्पन्न हो जाता है और यह दर्द कई बार पूरे अमाशय में होने लगता है।

इन कैलशियम की गोलियों से कई बार हमारे आमाशय में इंफेक्शन भी हो सकता है और यह संक्रमण एक बहुत ज्यादा उच्च स्तर तक भी पहुंच सकता है अतः कैल्शियम की गोलियों का प्रयोग सोच समझकर और किसी डॉक्टर की अच्छे से सलाह लेने पर ही करना चाहिए।


कैलशियम की गोलिया खाने का पांचवा नुकसान

यह है कि यहां हमारे खून में बहुत ज्यादा गुलित हो जाता है और इस स्थिति को हाइपर्कैल्सीमिया इन द ब्लड कहा जाता है, यदि हिंदी में बात की जाए तो इसका तात्पर्य है हमारे खून में कैल्शियम की मात्रा का बहुत ज्यादा मिल जाना और उसका प्रभाव यह होता है कि हमारा खून बहुत ज्यादा गाढ़ा हो जाता है

और जब यह हमारे हृदय में फिल्ट्रेशन के लिए जाता है तो इसमें कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है और साथ ही कई बार हरदे में भी दर्द उत्पन्न हो जाता है।

हमारे रक्त का गाढ़ा होना भी एक प्रकार का रोग ही है जो कि इसकी शरीर में होने वाले आवागमन पर विपरीत प्रभाव डालता है,

यदि हमारा रक्त इन कैलशियम की गोलियों के कारण बहुत ज्यादा गाढ़ा हो जाएगा तो हमारे संपूर्ण शरीर की संपूर्ण कोशिकाओं तक रक्त का आवागमन धीरे-धीरे होगा और उन कोशिकाओं तक यह रक्त नहीं पहुंच पाएगा।

 

कैल्शियम की गोली खाने के नियम

हर प्रकार की दवाइयों को खाने के अलग-अलग नियम होते हैं जैसे कि कुछ दवाइयों को खाने से पहले लिया जाता है, तो कुछ दवाइयों को खाने के बाद, कुछ दवाइयों को सोने से पहले लिया जाता है तो कुछ दवाइयों को रात्रि भोजन के बाद इसी प्रकार कैल्शियम की गोली खाने के क्या नियम हैं उसको हम इस लेख में देखने वाले हैं।

कैल्शियम की गोलियों का प्रयोग आमतौर पर खाने के बाद ही किया जाना चाहिए

लेकिन यदि इसका प्रयोग हमारे शरीर में कैल्शियम की खानापूर्ति को पूर्ण करने के लिए किया जा रहा है, तो इसका सेवन हमें रात्रि में भोजन के बाद गर्म दूध के साथ करना चाहिए ताकि यह हमारे हड्डियों को बहुत ज्यादा मजबूती प्रदान कर सके।

अगर इन कैलशियम की गोलियों का प्रयोग उच्च रक्तचाप या  अन्य समस्याओं में किया जा रहा है तो इसका प्रयोग एक समय सुबह भोजन के बाद और एक समय रात्रि भोजन के बाद किया जाना चाहिए ताकि यह हमारे शरीर में सकारात्मक प्रभाव डाले।

इन कैल्शियम की गोलियां खाने का एक नियम यह है कि अत्यधिक भोजन के बाद इनका सेवन नहीं किया जाना चाहिए

क्योंकि यदि अत्यधिक भोजन के बाद इसका सेवन किया जाएगा तो यह उस रूप से अपना प्रभाव हमारी शारीरिक समस्याओं में नहीं डालेगी जिस प्रकार से इसे डालना चाहिए।

अतः इसका नियम यह है कि हल्का फुल्का खाना खाने के बाद ही इन कैलशियम गोलियों का प्रयोग किया जाना चाहिए ताकि यह हमारे शरीर में जिस कार्य से जा रही हैं उस कार्य को पूर्ण रूप से संपन्न कर पाए।

अगर कोई पुरुष इसका प्रयोग कर रहा है तो उसे इसका प्रयोग रात्रि काल में गर्म दूध के साथ करना चाहिए था कि यह शरीर की मांसपेशियों को मजबूत कर सके।

इस प्रकार से कैल्शियम की गोलियों को अलग-अलग समस्याओं में अलग-अलग प्रकार से प्रयोग किया जाता है ताकि उसका उपचार भी उसी प्रकार से हो सके जिस लिए उसका प्रयोग किया जा रहा है।

 

आयरन और कैल्शियम की गोली के फायदे

हमारे शरीर में एक और हड्डियों में कैल्शियम की मात्रा होती है वही हमारे रक्त में आयरन की मात्रा भी होती है, कैल्शियम और आयरन इन दोनों पोषक तत्वों का संतुलन हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद रहता है तो आयरन और कैल्शियम की गोली के फायदे क्या है उसको हम इस लेख में जानने वाले हैं।

आयरन की गोलियां खाने से यह होता है कि यदि हमारे रक्त में किसी प्रकार के लौह तत्व की कमी है तो यह इस लौह तत्व की कमी को पूर्ण रूप से पूर्ण करता है

और हमारे रक्त को सुचारु रुप से चालू रखता है, तथा इसमें किसी प्रकार का संक्रमण ना हो और साथ ही यदि कैल्शियम की कमी है तो भी इन कैलशियम की गोलियों द्वारा इसे पूर्ण किया जा सकता है।

हमारे शरीर में कैल्शियम की पूर्ति पूर्ण रूप से हो इसलिए यह जरूरी है कि कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए।

आयरन और कैल्शियम की गोलियों का  एक साथ प्रयोग करते समय हमें यह सावधानी रखनी है कि इन दोनों का प्रयोग हमें एक साथ में नहीं करना है

यदि हम आयरन की गोली पहले ले रहे हैं तो इसके दो या तीन घंटों के पश्चात ही कैल्शियम की गोली का प्रयोग किया जाना चाहिए

और अगर हम कैल्शियम की गोली पहले ले रहे हैं तो आयरन की गोली का सेवन दो या तीन घंटों बाद किया जाना चाहिए था कि यह हमारे शरीर पर किसी प्रकार का विपरीत प्रभाव ना डालें।

आयरन की गोली का सेवन करने पर यदि हमारे शरीर में ऊर्जा की कमी है तो ये इस ऊर्जा की कमी को पूर्ण करता है और यदि हमारे शरीर में भूख की कमी है तो यह भूख की कमी को भी पूर्ण करता है ताकि हमारे शरीर को अन्य पोषक पदार्थों का सुचारू रूप से इसका लाभ मिल सके।

 

कैल्शियम की गोली कौन सी है

आज पूरे मार्केट में अनेक प्रकार की कैल्शियम की गोलियां आती हैं परंतु इसमें से कौन सी पूर्ण रूप से सत्यापित और कौन सी पूर्ण रूप से सत्यापित है इनकी पहचान करना भी जरूरी है ताकि हम जिस उद्देश्य के लिए इन कैलशियम की गोलियों का प्रयोग कर रहे हैं उन उद्देश्यों में सफल हो।

अधोलिखित कैल्शियम की गोलियां बेहद फायदेमंद हैं।


  • Osto Calcium
  • कैलशियम विद विटामिन d3 टेबलेट
  • जआयरोकल
  • सुप्रकाल
  • सिपकल 500 एमजी
  • डालिकल 500 एमजी
  • शेल्कल 500 एमजी

कैल्शियम की गोली कितने दिन खानी चाहिए

आमतौर पर जो सवाल सबसे ज्यादा रहता है वह है कि कैल्शियम की गोली कितने दिन खानी चाहिए और कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए।

अगर कोई बूढ़ा व्यक्ति इन कैलशियम की दवाइयों का इस्तेमाल कर रहा है, तो उनको सुबह शाम इसका प्रयोग करना चाहिए क्योंकि बुढ़ापे में शरीर की हड्डियां बहुत ज्यादा कमजोर हो जाती हैं

और उन में कैल्शियम की बहुत ज्यादा कमी हो जाती है जिसके द्वारा यह कैल्शियम की गोलियां इस कैल्शियम की कमी को पूरा करती हैं अतः इन्हें हमेशा सुबह शाम कैल्शियम की 2 गोलियों का सेवन करना चाहिए

अगर कैल्शियम की गोलियों का इस्तेमाल किसी टूटी हुई हड्डी को सही करने में किया जा रहा है या किसी फैक्चर हड्डी को सही करने में किया जा रहा है तो हमेशा रात्रि में इसका प्रयोग गर्म दूध के साथ किया जाना चाहिए ताकि यह हड्डियों को पुरानी मजबूती प्रदान कर सके।

अगर छोटे बच्चों को कैल्शियम और आयरन की गोली दी जा रही है तो उन्हें हर दिन एक गोली का सेवन करना चाहिए

ताकि उनकी शारीरिक गतिविधि को बढ़ावा मिले और उनके शरीर में कैल्शियम की जितनी कमी है उतनी खानापूर्ति हो सके परंतु अत्यधिक मात्रा में छोटे बच्चों को कैल्शियम की गोलियों का सेवन नहीं करना चाहिए।

अगर महिलाएं इन कैलशियम की गोलियों का इस्तेमाल कर रही हैं तो उन्हें इनका इस्तेमाल 1 दिन में 2 बार करना चाहिए।

 

कैल्शियम की गोली किस समय खानी चाहिए

कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए और कैल्शियम की गोली किस समय खानी चाहिए यह दुविधा सबसे ज्यादा होती है।

कैल्शियम की गोली को 1 दिन में दो बार ग्रहण किया जा सकता है, इसे पहली बार सुबह खाना खाने के बाद ग्रहण किया जा सकता है

और दूसरी बार रात्रि भोजन के बाद इसे ग्रहण किया जा सकता है परंतु इसका प्रयोग करते समय यह सावधानी रखनी चाहिए कि हमें हल्का फुल्का खाना खाने के बाद ही इस गोली का इस्तेमाल करना है ना कि बहुत ज्यादा चिकनाहट से युक्त खाना खाने के बाद।

कैल्शियम की गोली को रात्रि में सोने से पहले गर्म दूध के साथ भी ग्रहण किया जा सकता है यदि गर्म दूध ना हो तो इसे रात्रि में सोने से पहले गर्म पानी के साथ भी ग्रहण किया जा सकता है

क्योंकि जब हम रात्रि में सो रहे होते हैं तो हमारा शरीर पूर्ण रूप से हीलिंग मोड में होता है और उस समय ग्रहण किया गया कोई भी पोषक पदार्थ हमारे शरीर में पूर्ण रुप से लागू होता है।

 

कैल्शियम की गोली कैसे खानी चाहिए

उपरोक्त लेख में हमने अभी तक यह जाना है कि कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए और उसका इस्तेमाल किस प्रकार से करना चाहिए लेकिन जो बात सबसे महत्वपूर्ण है कि कैल्शियम की गोली कैसे खानी चाहिए तो इस बात को हम अब देखने वाले हैं।

कैल्शियम की गोलियों को अलग-अलग प्रकार से ग्रहण किया जा सकता है इसका इस्तेमाल सुबह शाम के भोजन के बाद किया जा सकता है

परंतु शर्त यह है कि वह भोजन हल्का-फुल्का होना चाहिए ना कि बहुत ज्यादा ऑइली और साथ ही इसका प्रयोग रात्रि में सोने से पहले गर्म दूध या गर्म पानी के साथ भी किया जा सकता है,

और कोई चाहे तो कैल्शियम की गोली का यूज़ प्रोटीन शेक के साथ भी किया जा सकता है।

आजकल मार्केट में कैल्शियम की गोलियां लिक्विड रूप में भी आती है तो इसका प्रयोग फल फ्रूट के साथ भी किया जा सकता है जो कि विशेषकर हमारे रक्तचाप की समस्या को कम करती है।

 


Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न विशेषज्ञों के अध्ययन और राय के साथ-साथ आम आदमी के स्वास्थ्य पर आधारित है। इस जानकारी को देने का उद्देश्य विषय से परिचित होना है। पाठकों को अपने स्वास्थ्य के आधार पर कोई भी निर्णय लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Conclusion

इस प्रकार आज के हमारे इस लेख में हमने यह जाना कि कैल्शियम की गोली कब खानी चाहिए, इस गोली को खाने के क्या फायदे क्या नुकसान है, और कैल्शियम की गोली को 1 दिन में कितनी बार  खाना करना चाहिए और इससे संबंधित अन्य बातें।

यदि आपको हमारे ये लेख पसंद आता है तो अपने बहुमूल्य कमेंट को जरूर हमारे कमेंट बॉक्स में टाइप करें ताकि आगे आने वाले समय में इसी प्रकार की ज्ञानवर्धक जानकारी हम आप तक ला पाए। इस लेख को शुरवात से अंत तक पढ़ने के लिए शुक्रिया

Leave a Comment

error: Content is protected !!