हार्ट अटैक कितनी बार आता है – Heart Attack kitni baar aata hai

हार्ट अटैक कितनी बार आता है जैसा कि आप सभी ने सुना ही होगा कि बहुत से लोगों को ह्रदय यानी कि हार्ट की अनेकों बीमारियाँ हो जाती है

जिसकी वजह से उन्हें बहुत सी समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है कोरोना के समय में आपने देखा ही होगा कि बहुत से लोगों की मौत हार्ट अटैक की वजह से भी हुई थी 

अब तक बहुत से सेलेब्रिटी भी हार्ट अटैक का शिकार हो चुके हैं किसी की जिम में एक्सरसाइज करते समय हार्ट अटैक से मौत हो गयी तो किसी की अपने कॉन्सर्ट में ही गाना गाते समय, तो किसी की रोजाना के काम करते हुए ही हार्ट अटैक से मौत हो गयी इसका सबसे बड़ा कारण आप लोगों की बदलती जीवन शैली को मान सकते हैं 

हार्ट/ह्रदय को हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग माना जाता है इसी के सहारे ही हमारे शरीर के सारे काम होते हैं यदि किसी व्यक्ति के हार्ट में कोई समस्या होती है 

तो उसको साथ में और भी बहुत सी बीमारियाँ घेर लेती हैं हार्ट की समस्या होने पर व्यक्ति को ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर लेवल और कोलेस्ट्रोल के अचानक बढ़ने जैसे कई दिक्कतें भी हो सकती हैं 

हार्ट की समस्याएँ समय के साथ बढ़ती ही जाती है तथा आगे चल कर ये गंभीर रूप धारण कर सकती है जैसा कि आपने ऊपर भी पढ़ा कि दिल हमारे शरीर का एक बेहद अहम अंग है 

यदि आप अपनी जिंदगी को लंबे वक्त तक बरकरार रखना चाहते हैं, तो इसका सही तरीके से और लगातार काम करना बहुत ज़रूरी है 

आमतौर पर ख़राब डाइट, गड़बड़ लाइफ स्टाइल, मोटापा, हाई कोलेस्ट्रॉल तथा अन्य कई कारणों से किसी भी इंसान को दिल का दौरा पड़ता है जिसकी वजह से व्यक्ति की जान भी जा सकती है लेकिन एक सवाल कई लोगों के मन में उठता है 

कि किसी व्यक्ति को पूरी जिंदगी में हार्ट अटैक कितनी बार आ सकता है आपके मन में भी ये सवाल अवश्य होगा तो हम आगे इसी के बारे में आपको विस्तार से सारी जानकारियां देंगे  

तो आईये अब देखें कि एक व्यक्ति को कितनी बार हार्ट अटैक आ सकता है परन्तु इसके साथ हमे ये भी पता होना चाहिए कि हार्ट अटैक होता क्या है तो आईये शुरू करते हैं हमारा आज का आर्टिकल 

 

Heart Attack kitni baar aata hai
Heart Attack kitni baar aata hai

 

हार्ट अटैक कितनी बार आता है – Heart attack kitni baar aata hai  

कॉर्डियोलॉजिस्ट (cardiologist) के अनुसार, आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को ज़्यादा से ज़्यादा तीन बार हार्ट अटैक आ सकता है  यह किसी भी उम्र के लोगों को आ सकता है

तो अब आपको अपने सवाल हार्ट अटैक कितनी बार आ सकता है का जवाब तो मिल ही गया होगा, आईये आगे हार्ट अटैक के बारे में कुछ अन्य जानकारियां भी इकट्ठी करें 

आप सबने हार्ट अटैक शब्द तो सुना ही होगा परन्तु आपको ये नहीं पता होगा कि हार्ट अटैक होता क्या है तथा ये क्यों आता है इस प्रकार के अनेकों सवाल आपके मन में आते होंगे तो आपके उन्ही सवालों का जवाब हम आपको अपने इस आर्टिकल से देंगे 


 क्या होता है हार्ट अटैक – Kya hota hai Heart attack 

आपने ऊपर पढ़ा कि हार्ट अटैक कितनी बार आ सकता है परन्तु इसके बारे में जानने से पहले आपको यह अवश्य पता होना चाहिए कि आख़िरकार हार्ट अटैक किसे कहते हैं तो आईये इसके बारे में भी पर्याप्त जानकारियां आगे प्राप्त करें 

 जब हमारे हार्ट यानी कि दिल में खून का फ्लो कम हो जाता है या फिर उसके उसके बहाव में किसी तरह की रुकावट आ जाती है, तब हार्ट अटैक आता है इसे ही लोगों द्वारा दिल का दौरा भी कहा जाता है 

आपके खून (Blood) के फ्लो में रुकावट कई कारणों से आ सकती है जैसे धमनियों में फैट या कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ जाने की वजह से, हार्ट अटैक की वजह से बहुत लोगों की मौत होने के मामले भी सामने आते रहते हैं इसलिए, आपको जब भी हार्ट अटैक का कोई भी लक्षण महसूस हो तो तुरंत ही किसी डॉक्टर से संपर्क करें 

यदि मेडिकल की भाषा में कहें तो हार्ट अटैक को मायोकार्डियल इनफार्क्शन (Myocardial infarction) के नाम से जाना जाता है 

‘मायो’ शब्द का अर्थ होता है मांसपेशी तथा ‘कार्डियल’ शब्द हृदय को परिभाषित करता है वहीं दूसरी ओर, ‘इनफार्क्शन’ अपर्याप्त रक्त आपूर्ति के कारण शरीर के ऊतक के नष्ट होने को संदर्भित करता है शरीर के ऊतकों का नष्ट होना हमारे ह्रदय की मांसपेशियों के लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है 

अब यदि हम आपसे पूछें कि हार्ट अटैक होता क्या है तो आप इस सवाल का जवाब आसानी से दे सकते हैं इसके साथ ही यदि आप हार्ट अटैक के बारे में और भी बातें जानना चाहते हैं तो हमारे साथ आगे तक ज़रूर बने रहें 


हार्ट अटैक आने के कारण – Heart attack aane ke karan  

दिल का दौरा पड़ने या हार्ट अटैक के पीछे कई कारण हो सकते हैं यहां, हम आपको हार्ट अटैक के सबसे प्रमुख कारणों के बारे में बताएँगे, हार्ट अटैक आने के मुख्य कारण नीचे दिए गए है  

  • आनुवांशिक कारण 

बहुत सी ऐसी बीमारियाँ होती हैं जो कि अनुवांशिक होती हैं उन्ही में से एक है ह्रदय रोग भी, तो यदि आपके घर में पीढ़ियों से बहुत लोग ह्रदय रोग से ग्रसित रहे हैं तो ऐसे में आपको भी दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है 

  •  उच्च रक्तचाप 

रक्तचाप का बढ़ना अनेकों बिमारियों की ओर इशारा करता है तो अगर आपका ब्लड प्रेशर बहुत समय से अधिक ही बना रहता है तो इससे आपके ह्रदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों को काफी नुकसान पहुंचा सकता है जिससे आप आसानी से हार्ट अटैक की समस्या से ग्रस्त हो सकते हैं 

  • कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना 

कोलेस्ट्रोल का बढ़ा रहना आपकी धमनियों पर बहुत ही बुरा प्रभाव डालता है इसलिए, हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने के लिए आपको हमेशा सावधानीपूर्वक भोजन करना आवश्यक है 

  • चिंता या तनाव 

तनाव या चिंता के कारण आपके ब्लड प्रेशर का स्तर काफी बढ़ जाता है जिसकी वजह से आपको ह्रदय की समस्याएँ हो सकती हैं इसलिए कम से कम तनाव लें 

  • नशा या धूम्रपान 

धूम्रपान आपकी धमनियों को कठोर बनाता है और आपके ब्लड प्रेशर के स्तर को भी बढ़ाता है 

ऊपर दिए गए सभी कारक ही हार्ट अटैक के कारण बनते हैं इसलिए आपको हार्ट अटैक के बारे में सारी जानकारियां पहले से पता होनी आवश्यक हैं 

जैसे कि हार्ट अटैक कितनी बार आ सकता है तथा इसके लक्षण आदि क्या हैं इन्हीं लक्षणों के बारे में हम आपको आगे बताएँगे 


हार्ट अटैक के मुख्य लक्षण – Heart attack ke mukhya lakshan  

हार्ट विशेषज्ञों के अनुसार, हार्ट अटैक आने से पहले हमारा शरीर कई तरह के संकेत देता है, जिसमें सबसे बड़ा संकेत होता है सीने में दर्द होना, हार्ट अटैक आने के कुछ खास लक्षण निम्न दिए गए हैं 

  • सीने में दर्द जैसा महसूस होना 
  • दांतों या जबड़े में दर्द होना 
  • सांस लेने में तकलीफ होना 
  • बहुत अधिक पसीना आना 
  • गैस बनना 
  • चक्कर आने जैसा लगना 
  • बेचैनी महसूस होना 
  • जी मचलाना और उल्टी जैसा महसूस होना 

यदि ऊपर दिए गए लक्षणों में से आपको कोई भी लक्षण अपने शरीर में दिखाई देते हैं तो इन लक्षणों को बिलकुल भी नजरंदाज न करें, क्योंकि यदि आप ऐसा करते हैं तो आगे चल कर आपको बहुत अधिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है 

  तो अब तक हमने देखा कि हार्ट अटैक होता क्या है तथा किसी व्यक्ति को यह कितनी बार आ सकता है इन सबके बारे में जानकारियां इकत्रित करने के बाद अब हम देखेंगे कि हार्ट अटैक का पता लगाने के लिए कौन- कौन से परीक्षण किये जाते हैं 


हार्ट अटैक का परीक्षण – Heart attack ka parikshan 

हार्ट अटैक के परीक्षण के लिए अनेकों टेस्ट्स किये जाते हैं जिससे कि पता चल सके कि आपको ह्रदय से जुड़ी कोई समस्या है या नहीं, तो इन परीक्षणों के बारे में जानने के लिए हमारे इस आर्टिकल को आगे तक पूरा अवश्य पढ़ें 

  • ब्लड टेस्ट (Blood Test) 

हार्ट अटैक की स्थिति में ब्लड टेस्ट इसलिए किया जाता है ताकि आपके शरीर में कार्डियक एंजाइम की उपस्थिति का पता लग सके, कुछ ब्लड टेस्ट ऐसे भी किये जाते हैं जो कि हृदय की कोशिका के प्रोटीन स्तर को भी मापने का कार्य करते हैं 

  • ईसीजी (ECG)  

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम या ईसीजी एक ऐसा परिक्षण होता है जो कि व्यक्ति के हृदय के माध्यम से जाने वाले विद्युत के संकेतों को मापने का काम करता है 

जब हमारा ह्रदय अपने चैम्बर के माध्यम से शरीर में रक्त को पंप करता है तब ईसीजी द्वारा इन संकेतों को मापने का कार्य किया जाता है इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम के माध्यम से ही ह्रदय विशेषज्ञों को हार्ट से जुड़ी समस्याओं के बारे में पता चलता है 

  • इकोकार्डियोग्राफी (Ecocardiography) 

इकोकार्डियोग्राफी एक ऐसा परीक्षण हैं जो यह हार्ट अटैक आने के दौरान और बाद में किया जाता है इससे ही आपके डॉक्टर को यह पता चलता है कि आपका दिल सही से काम कर पा रहा है या नहीं, इस परीक्षण से इस बात का भी पता चलता है कि हार्ट अटैक की वजह से आपके हार्ट के किसी हिस्से को कोई क्षति तो नहीं हुई है 

  • एंजियोग्राम (Angiogram) 

यह एक इमेजिंग टेस्ट है जो कि धमनियों में रुकावट का पता लगाने के लिए किया जाता है 


 हार्ट अटैक से कैसे करें बचाव – Heart attack se kaise karen bachav  

हार्ट अटैक से बचाव करने के लिए आप कई तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं इन्हीं उपायों के बारे में हमने आपको नीचे बताया है 

  • अपने वजन को कंट्रोल में रखें 

यदि आप अपने वजन को नियंत्रण में रखते हैं तो आप कई बिमारियों से बच सकते हैं उन्ही में से एक है हार्ट अटैक से बचाव, इसलिए यदि आप एक स्वस्थ जीवन जीना चाहते हैं तो अपने वजन को हमेशा कंट्रोल में रखें 

  • धूम्रपान, तथा शराब आदि का सेवन न करें 

जो लोग धूम्रपान तथा शराब आदि का सेवन करते हैं उन्हें अनेकों प्रकार की बीमारियाँ हो सकती हैं जैसे फेफड़ों की समस्या, सांस लेने में परेशानी तथा हार्ट अटैक की समस्या आदि इसलिए हमेशा कोशिश करें इन सब प्रकार की बुरी आदतों से दूर रहें 

  • अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए किसी भी चीज का अधिक मात्रा में सेवन न करें 

आज कल बहुत कम ही ऐसे लोग हैं जो कि अपने भोजन में संतुलित आहार का सेवन करते हैं जिसकी वजह से वे अनेकों बिमारियों के शिकार हो जाते हैं

तो यदि आप चाहते हैं कि आपको किसी भी प्रकार की बीमारी न हो तथा आपका हार्ट भी स्वस्थ रहे तो आपको अधिक चीनी, नमक या बहुत ज्यादा फैट वाली चीजों से दूरी बना के रखनी चाहिए 

  • अपने भोजन में फलों और हरी सब्जियों को शामिल करना चाहिए 

आपने सुना ही होगा कि फलों और सब्जियों में अनेक प्रकार के पोषक तत्त्व पाए जाते हैं जो कि आपके शरीर को ताकत प्रदान करते हैं 

  तथा आपके शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में भी मदद करते हैं इसलिए यदि आप अपने हार्ट को स्वस्थ रखना चाहते हैं तथा हार्ट अटैक की समस्या से बचना चाहते हैं तो अपने प्रतिदिन के भोजन में फलों तथा हरी सब्जियों को अवश्य शामिल करें 

  • रोजाना व्यायाम और योग जरूर करें 

रोजाना एक्सरसाइज तथा योग हर एक बीमारी का इलाज है क्योंकि इससे आपके मन को शांति मिलती है, शरीर को भी मजबूती प्राप्त होती है 

 तथा शरीर को रोगों से हर प्रकार के रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है इसलिए हमारी आपको यही सलाह है कि आप प्रतिदिन व्यायाम करें जिससे कि आप ह्रदय की सारी समस्याओं से दूर रह सकें


FAQ’s – हार्ट अटैक कितनी बार आ सकता है

सवाल : हार्ट अटैक का मुख्य कारण क्या है? 

हार्ट अटैक आमतौर पर कोलेस्ट्रॉल जमा होने के कारण होता है जिसे प्लाक कहा जाता है प्लाक आपकी धमनियों को संकुचित कर सकता है, जिससे हृदय में रक्त का प्रवाह कम हो सकता है तथा ब्लड सर्कुलेशन का रुक जाना ही हार्ट अटैक का मुख्य कारण होता है

सवाल : हार्ट अटैक का दर्द कहाँ होता है?

हार्ट अटैक में चेस्‍ट के बाईं ओर तेज दर्द सा महसूस होता है गैस की दिक्‍कत खाली पेट या अधिक खाने की वजह से हो सकती है वहीं हार्ट में प्रॉब्‍लम कार्टरेज में ब्‍लॉकेज की वजह से होती है

सवाल : हार्ट के लिए कौन सा टेस्ट किया जाता है?

एक ईसीजी टेस्ट (ECG test) यह निर्धारित करने में मदद करता है कि आपको किस प्रकार का दिल का दौरा (heart attack) पड़ा है

सवाल : हार्ट अटैक कितनी बार आता है?

आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को ज़्यादा से ज़्यादा तीन बार हार्ट अटैक आ सकता है

सवाल : हार्ट अटैक के लक्षण बताइए?

सीने में दर्द होना तथा सांस लेने में परेशानी होना आदि हार्ट अटैक के ही लक्षण हैं


Conclusion 

आईये देखते हैं कि आज हमने अपने इस आर्टिकल से क्या-क्या जानकारियां प्राप्त की, तो आज हमने पढ़ा कि हार्ट अटैक कितनी बार आता है, हार्ट अटैक के लक्षण क्या-क्या हैं,तथा हार्ट अटैक किन कारणों की वजह से आता है इसके अलावा हमने पढ़ा कि हार्ट अटैक से बचाव कैसे करें

Heart Attack होता क्या है इसके बारे में भी हमने सम्पूर्ण जानकारियां अपने इस आर्टिकल की मदद से आपको प्रदान की हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा,

तथा यदि आपको हमारे इस आर्टिकल से जुड़ी कोई भी समस्या है या फिर कोई आपका कोई भी सुझाव है तो comment box में हमें अवश्य बताएं, धन्यवाद

error: Content is protected !!