हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है – High Blood Pressure kitna Hota Hai

हाई ब्लड प्रेशर किसे कहते हैं ? हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है इससे जुड़े कई सवाल हमसे पूछे जाते हैं

इसीलिए आज हम इस लेख के माध्यम से जानने की कोशिश करेंगे की High ब्लड प्रेशर कितना होता है ?  सामान्य रक्तचाप क्या होना चाहिए?  बीपी कम करने के घरेलू उपाय।

इन्हीं सब बातों की जानकारी आज हम इस लेख के माध्यम से प्राप्त करेंगे । हम आशा करते हैं कि यदि आप इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ते हैं, तो आपको इस वेबसाइट हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है इसके बारे में सही जानकारी मिल जाएगी

जिसके बाद आपको किसी भी अन्य वेबसाइट पर रक्तचाप की जानकारी खोजने की आवश्यकता नहीं होगी।

 

High Blood Pressure kitna Hota Hai
High Blood Pressure kitna Hota Hai in Hindi

 

अनुक्रम

हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है – High Blood Pressure kitna Hota Hai

हाई ब्लड प्रेशर को हिंदी में उच्च रक्तचाप  जाता है, यह कोई गंभीर बीमारी नहीं है, यह एक सामान्य बीमारी है,

जिसके कारण हमारी धमनियों में रक्त का दबाव समय के साथ इस हद तक बढ़ जाता है कि अंत में हमारी   इस वजह से बढ़ने लगती हैं।

अक्सर हम लोगों के मुंह से सुनते हैं कि ब्लड प्रेशर किन चीजों पर निर्भर करता है तो हम आपको बता दें कि ब्लड प्रेशर सिर्फ दो चीजों पर निर्भर करता है,

गिरधर द्वारा पंप किए गए खून की मात्रा और धमनियों में रक्त के प्रवाह के खिलाफ प्रतिरोध।  इसलिए हमारा हृदय जितना अधिक रक्त पंप करता है और हमारा धनिया इतना पतला होता है, रक्तचाप उतना ही अधिक होता है।

हमारे शरीर में सालों तक बिना किसी लक्षण के ब्लड प्रेशर बढ़ता रहता है, इसीलिए इस बीमारी को अक्सर साइलेंट किलर कहा जाता है।

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर है और आपको इसकी जानकारी नहीं है तो इसे कंट्रोल करने में काफी समय लग सकता है,

लेकिन जब आपको हाई ब्लड प्रेशर के बारे में पता चलता है तो आप इसे आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं।

अक्सर देखने को मिलता है कि जिन लोगों का बीपी बहुत बढ़ जाता है और उनका समय पर इलाज नहीं हो पाता है, जिससे उनका बीपी कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो जाता है

ऐसे में हार्ट अटैक की संभावना ज्यादा रहती है, इसके अलावा  स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं हैं।  परेशानी होने का भी खतरा रहता है

 

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या है – High Blood Pressure ke lakshan

कुछ लोगों को उच्च रक्तचाप के लक्षण नहीं पता होते हैं, भले ही उच्च रक्तचाप खतरनाक स्तर तक पहुंच जाए।

जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि हाई ब्लड प्रेशर के बारे में तब पता चलता है जब कोई व्यक्ति किसी और गंभीर बीमारी से परेशान होता है।

तो आपने अक्सर कुछ लोगों से सुना होगा कि उसे हाई ब्लड प्रेशर है।  रक्त चाप।  एक दबाव विकार था जिससे उसे दिल का दौरा पड़ा

यदि हाई ब्लड प्रेशर यानी  (उच्च रक्तचाप) अधिक बढ़ जाता है तो रोगी में ये सभी लक्षण दिखाई देते हैं।

  • नाक से खून बहना
  • सिरदर्द
  • सांस लेने में कष्ट
  • चक्कर आना ।
  • सिरदर्द।
  • छाती में दर्द
  • पेशाब में खून आना।

हाई ब्लड प्रेशर बढ़ने पर मरीज में कोई लक्षण नहीं दिखते लेकिन फिर भी मरीज को हमेशा डॉक्टर के पास जाकर अपना बीपी चेक करवाना चाहिए

क्योंकि बीपी कभी भी कम या ज्यादा हो सकता है।  डॉक्टर के पास जाने से यह पता चलता है कि मरीज को बीपीआई की समस्या है या नहीं।

 

हाई ब्लड प्रेशर क्या है – हाई ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए

हाई ब्लड प्रेशर क्या है – हाई बीपी तब होता है जब आपका ब्लड प्रेशर सामान्य से अधिक अस्वस्थ स्तर तक बढ़ जाता है।

 कहा गया है कि 140/90 मिमी एचजी से अधिक बीपी को हाई बीपी कहा जाता है।

45 वर्ष की आयु तक, पुरुषों में महिलाओं की तुलना में उच्च रक्तचाप होने की संभावना अधिक होती है, और 65 वर्ष की आयु तक महिलाओं में पुरुषों की तुलना में उच्च रक्तचाप होने की संभावना अधिक होती है।

मधुमेह के रोगियों को भी मधुमेह न होने वालों की तुलना में हाई बीपी होने का खतरा अधिक होता है।

गर्भावस्था में हाई बीपी के स्तर को थोड़ा अलग तरीके से बताया गया है और गर्भावस्था में हाई बीपी मां और उत्तरजीवी दोनों के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है।

 

हाई ब्लड प्रेशर के नुकसान क्या है – High Blood Pressure Ke Nuksan

हाई बीपी हमारी धमनियों की दीवारों पर बहुत अधिक दबाव डालता है।  जिससे हमारे शरीर में मौजूद हमारी रक्त कोशिकाएं और अंग क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। रक्तचाप जितना अधिक होगा, उतना ही यह अनियंत्रित रहेगा और उतना ही अधिक नुकसान होगा।

  • दिल का दौरा पङना– हाई बीपी के कारण कोशिकाएं मोटी और सख्त हो जाती हैं, जिससे दिल का दौरा या अन्य जटिलताएं हो जाती हैं।
  • एन्यूरिज्म – हाई बीपी के साथ हमारी कोशिकाएं कमजोर हो जाती हैं और बाहर की ओर निकल जाती हैं, जिससे एन्यूरिज्म (धमनी की दीवार में अत्यधिक सूजन) हो जाती है।  धमनीविस्फार के टूटने के कारण यह जीवन के लिए खतरा भी हो सकता है।
  • हृदय गति रुकना – कोशिकाओं में अतिरिक्त दबाव के खिलाफ रक्त पंप करने से हृदय की मांसपेशियां मोटी हो जाती हैं। अंत में, हृदय को मोटी मांसपेशियों की जरूरतों को पूरा करने में परेशानी होगी और वह पर्याप्त रक्त पंप नहीं कर पाएगा, जिससे दिल की विफलता हो सकती है।
  • गुर्दे में कमजोर और संकुचित रक्त कोशिकाएं – इससे आपकी किडनी ठीक से काम नहीं कर पाती है।
  • आंखों की रक्त कोशिकाओं का कमजोर या संकुचित होना – इससे आंखों की रोशनी कम हो सकती है।
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम – मेटाबोलिक सिंड्रोम शरीर के चयापचय से संबंधित विकारों का एक समूह है।  इससे आपको मधुमेह, हृदय रोग और दिल का दौरा जैसी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • दिमाग से जुड़ी समस्याएं – अनियंत्रित हाई बीपी आपके सोचने, याद रखने और सीखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।  हाई बीपी वाले लोगों में याददाश्त की समस्या आम है।

 

लो ब्लड प्रेशर हम किसे कहते हैं – Low Blood Pressure Yane Kya

आज की भागदौड़ भरी और तनावपूर्ण जिंदगी में ब्लड प्रेशर की शिकायत होना आम बात है।  चक्कर आना, आंखों का काला पड़ना, ठंडे हाथ-पैर, हल्की बेहोशी, लेटने, खड़े होने और बैठने में ब्लड प्रेशर लेवल में बदलाव। यह सब लो ब्लड प्रेशर की समस्या है,

अक्सर लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते।  जबकि लो ब्लड प्रेशर में शरीर में लो ब्लड प्रेशर की वजह से पूरा ब्लड जरूरी अंगों तक नहीं पहुंच पाता है। जिससे उनके काम में बाधा आती है.

ऐसे में हृदय, गुर्दे, फेफड़े और मस्तिष्क भी आंशिक रूप से या पूरी तरह से काम करना बंद कर सकते हैं।

जानकारी के लीए आपको बता दे की, वात, पित्त और कफ दोषों को निम्न रक्तचाप के लिए जिम्मेदार माना जाता है।  हालांकि लो ब्लड प्रेशर अपने आप में कोई बीमारी नहीं है

लेकिन यह शरीर में किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है जैसे हृदय रोग, तंत्रिका तंत्र में गड़बड़ी, कुछ लोगों के लिए निम्न रक्तचाप कोई समस्या नहीं है।

लेकिन कुछ मामलों में कम  रक्तचाप कोई समस्या नहीं है।  ब्लड प्रेशर की समस्या होती है।  रक्तचाप जीवन के लिए खतरा बन सकता है।  ऐसे में इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

 

लो ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं – Low Blood Pressure Ke Lakshan

  • अगर आपको बहुत चक्कर आ रहा है तो आपको समय-समय पर अपना बीपी चेक कराते रहना चाहिए।
  • अगर आंखों के आगे कालापन है या अंधेरा नजर आ रहा है तो यह भी लो बीपी का लक्षण है।
  • भोजन का कम होना या समय पर भूख न लगना लो बीपी का लक्षण है।
  • उल्टी जैसा महसूस होना
  • बिना कुछ किए थक जाना या बहुत बार थक जाना।  अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो बीपी जरूर चेक करें।
  • कभी-कभी सांस लेने में दिक्कत होती है।  यह भी लो बीपी के सामान्य लक्षणों में से एक है।
  • अगर आपको कुछ भी ठीक से नहीं दिख रहा है या चलते समय धुंधला दिखाई दे रहा है, तो यह भी लो ब्लड प्रेशर का लक्षण हो सकता है।

 

लो ब्लड प्रेशर से होने वाले नुकसान – Low Blood Pressure Ke Nuksan

ब्लड प्रेशर एक ऐसी बीमारी है जिसका बढ़ना और गिरना दोनों ही जीवन के लिए खतरा है।  लोग हाई ब्लड प्रेशर को लेकर सतर्क रहते हैं।

लेकिन लो बीपी को नजरअंदाज कर देते हैं।  हमारा सामान्य रक्तचाप 120/80 होना चाहिए, लेकिन अगर यह इससे नीचे चला जाता है

तो इसे निम्न रक्तचाप यानि हाइपोटेंशन कहा जाता है।  उच्च रक्तचाप जितना शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है, उतना ही निम्न रक्तचाप भी नुकसान पहुंचा सकता है।

लो ब्लड प्रेशर गुर्दे, मस्तिष्क और फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकता है।  जब रक्तचाप कम होता है तो शरीर के इन आवश्यक अंगों को रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है,

जिससे ये आवश्यक अंग प्रभावित होते हैं।  स्थिति इस हद तक पहुंच जाती है कि इससे दिल का दौरा और ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है।

इन समस्याओं से बचने के लिए रक्तचाप का सामान्य होना जरूरी है। अगर आप भी लो ब्लड प्रेशर के शिकार हैं तो सबसे पहले इसके लक्षणों को पहचानें और फिर इसका इलाज करें।

 

नार्मल ब्लड प्रेशर क्या है – Normal Blood Pressure in Hindi

आज की लाइफस्टाइल में लोग कम उम्र में ही कई बीमारियों का शिकार हो जाते हैं।  ब्लड प्रेशर भी एक ऐसी स्थिति है

जिसका बढ़ना और कम होना दोनों ही खतरनाक है। आमतौर पर लोग ब्लड प्रेशर को लेकर ज्यादा गंभीरता नहीं दिखाते हैं, लेकिन किसी भी तरह की दिक्कत होने पर डॉक्टर पहले ब्लड प्रेशर चेक करते हैं।

इससे साफ पता चलता है कि बीपी लेवल को कंट्रोल में रखना कितना जरूरी है।  आंकड़ों के अनुसार, लगभग 33 प्रतिशत शहरी और 25 प्रतिशत ग्रामीण लोग उच्च रक्तचाप के रोगी हैं।

 

नार्मल ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए – Normal Blood Pressure kithna Chahiye

नार्मल ब्लड प्रेशर 120/80 मिमी एचजी मानी जाती है।  स्लैश के ऊपर की संख्या को सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर और निचले हिस्से को डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर कहा जाता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार  15 से 18 साल के लड़कों का बीपी 117/77 एमएम एचजी और लड़कियों का 120/85 एमएम एचजी होना चाहिए।  वहीं, 19 से 24 साल के लड़के-लड़कियों का बीपी 120/79 एमएम एचजी होना चाहिए।

25 से 29 साल के पुरुषों और महिलाओं के ब्लड प्रेशर की बात करें तो यह 120/80 mm Hg के करीब होना चाहिए।

वहीं 30 से 39 साल के पुरुषों में बीपी 122/81 और महिलाओं में 123/82 एमएम एचजी को सामान्य माना जाता है।

इसके अलावा, 40 से 50 के बीच पुरुषों और महिलाओं के लिए रक्तचाप का स्तर 124/84 मिमी एचजी जितना अधिक हो सकता है।

 

बीपी लो करने के घरेलू उपाय – Blood Pressure (BP) Low karne ke Upay

  • नमक पानी

नमक का पानी लो ब्लड प्रेशर का इलाज करने में मदद करता है, क्योंकि नमक में सोडियम होता है जो रक्तचाप को बढ़ाता है।  एक गिलास पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर पी लें।

लेकिन इस उपाय का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि ज्यादा नमक सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

  • अदरक

लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए अदरक अच्छा साबित हो सकता है।  इस जड़ी बूटी में कई लाभकारी तत्व होते हैं।

जिनमें जिंजरोल, शोगोल जैसे एंटीऑक्सिडेंट और जिंजरोन जैसे रसायन शामिल हैं जो आपके रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं।

इसके अलावा अदरक में एंटी-क्लॉटिंग, एंटी-स्पास्मोडिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जो ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाते हैं, जिससे शरीर में ब्लड प्रेशर संतुलित रहता है।

  • तुलसी और शहद

तुलसी में विटामिन-सी, मैग्नीशियम, पेंटाथेनिक एसिड और पोटैशियम की मात्रा अधिक होती है जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।

इसके अलावा, यह आपके दिमाग को संतुलित करने में भी मदद करता है और आपके तनाव को कम करता है, जिससे आपका रक्तचाप सामान्य हो जाता है।

साथ ही शहद में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए काफी फायदेमंद होता है।

  • रोज़मेरी और जैतून का तेल

यह  एक जड़ी बूटी है जो लो ब्लड प्रेशर के इलाज में फायदेमंद है।  रोज़मेरी शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करता है

और तंत्रिका तंत्र को बढ़ावा देता है। जैतून के तेल के साथ मेंहदी का उपयोग करने से रक्तचाप, सिरदर्द और परिसंचरण नियंत्रित होता है

  • अधिक पानी पीना

जितना हो सके  रोजाना कम से कम 2 से 3 लीटर पानी पिएं और इसके अलावा नारियल पानी, बेल का शरबत, आम के पत्ते, नींबू पानी आदि पीते रहें।

  • कॉफी पिना

अगर आपका बीपी लो हो रहा है तो तुरंत कॉफी या चाय पी लें।  यह अस्थायी रूप से आपके रक्तचाप को सामान्य कर देगा और आप बेहतर महसूस करेंगे।

  • बादाम दूध

4 से 5 बादाम रात को पानी में भिगो दें और सुबह पानी में उबालकर ठंडा करके पीस लें और पी लें।  इससे आपका ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहेगा।

  • किशमिश

सूखे अंगूरों को रात भर पानी में भिगो दें और सुबह इसका सेवन करें।  ब्लड प्रेशर नहीं गिरेगा।

 

ब्लड प्रेशर की दवाइयां

वैसे तो हाथ ब्लड प्रेशर के लिए बहुत सारी दवाई मार्केट में उपलब्ध है लेकिन आज हम कुछ ऐसी दवाइयों के नाम बता रहे हैं।

जो ब्लड प्रेशर के लिए काफी लाभदायक होता है, लेकिन इन सभी दवाइयों का सेवन करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से दवाई के बारे में सही जानकारी प्राप्त करना चाहिए।

उसके बाद ही दवाई का सेवन करना चाहिए क्योंकि अगर आप बिना डॉक्टर की सलाह के दवाइयों का सेवन करते हैं तो संभावना ज्यादा है की आप को इनके नुकसान देखने मिले | इसीलिए निचे दिए दवाई को डॉक्टर के सलाह के बाद ही ले जो आप के स्वस्थ के लिए सुरक्षित होगा

  • Graha Ayurveda Triphala Guggul
  • Hawaiian Herbal Flax Seed Capsule
  • Dasamulaharitaki Leham
  • Arya Vaidya Shala Kottakkal Dasmulaharitki Leham
  • Dhootpapeshwar Brahmi Vati
  • Brahmi Vati Buddhivardhanak
  • Ivy’s Mukta Vati – Blood Pressure Ayurvedic Medicine
  • Yash Amla Juice Super
  • Vaidyaratnam Mehnil Tablets
  •  Swadeshi Amla Aloe Vera Juice

 

FAQs – High Blood Pressure kitna Hota Hai in Hindi

सवाल : 60 साल की उम्र में ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए बताये

60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को वैसे भी दिल की समस्याओं का 10% अधिक जोखिम होता है, इसलिए 60 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को अपना रक्तचाप 130/80 से नीचे रखना चाहिए।

सवाल : हाई ब्लड प्रेशर की जांच कैसे की जाती है?

वैसे तो डॉक्टर के अनुसार हाई ब्लड प्रेशर की जांच करना बहुत आसान है, लेकिन जिन लोगों को हाई बीपी है तो डॉक्टर उन्हें हफ्ते में कई बार हाई ब्लड प्रेशर चेक करने के लिए कहते हैं.अब आप सोच रहे होंगे कि डॉक्टर कभी-कभी बीपी चेकअप के लिए क्यों कहते हैं।  वे ऐसा इसलिए कहते हैं क्योंकि वे जानना चाहते हैं।

बीपी हमेशा स्थिर रहता है या नहीं क्योंकि कई बार बीपी जरूरत से ज्यादा बढ़ जाता है।  या यह बहुत कम हो सकता है।  कभी-कभी बीपी का स्तर हर दिन बदलता रहता है।

सवाल :  मैं बीपी को सामान्य कैसे रख सकता हूं?

बीपी को सामान्य रखने के लिए खाने-पीने में नमक का सेवन बिल्कुल कम करना चाहिए, क्योंकि ज्यादा नमक खाने से शरीर में सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है।

जो कई स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म देता है।  अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने से ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक समेत दिल से जुड़ी कई समस्याएं बढ़ जाती हैं।

इसलिए हाई बीपी वाले व्यक्ति को ताजे फलों का सेवन करना चाहिए, जिससे हाई बीपी नॉर्मल हो जाता है।

सवाल : मनुष्य का सामान ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए ?

मनुष्य का सामान्य रक्तचाप 120/80 मिमी माना जाता है लेकिन डॉक्टर के अनुसार 15 से 18 वर्ष के लड़कों का रक्तचाप 117/77 मिमी और लड़कियों का 120/85 मिमी होना चाहिए।

सवाल : बीपी लो करने के घरेलू उपाय क्या हो सकते है?

वैसे तो बीपी लो करने के अनेक घरेलू उपाय है जिसके द्वारा बीपी  को लो किया जा सकता है लेकिन सबसे ज्यादा कारगर नमक पानी होता है

क्योंकि नमक में सोडियम होता है जो रक्तचाप को बढ़ाता है।  एक गिलास पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर पी लें।  लेकिन इस उपाय का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

 

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न विशेषज्ञों के अध्ययन और राय के साथ-साथ आम आदमी के स्वास्थ्य पर आधारित है। इस जानकारी को देने का उद्देश्य विषय से परिचित होना है। पाठकों को अपने स्वास्थ्य के आधार पर कोई भी निर्णय लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

Conclusion

इस लेख में आपने हाई ब्लड प्रेशर कितना होता है के बारे में जाना आशा करते है , यह लेख का फायदा आप को वर्तमान तथा भविष्य में जरूर होगा

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे Social Media पर सबके साथ इसे शेयर अवश्य करें ।

क्यों की सुरक्षित स्वास्थ के लिए High Blood Pressure kitna Hota Hai संबंधित जानकारी सभी को पता होना जरूरी है

और इस विषय संबंधित कोई भी सवाल आप के मन में होगा तो निचे कमेंट में बताये हम आप के कमेंट का जरूर जवाब देंगे | शुरू से अंत तक इस लेख को Read करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…

error: Content is protected !!