पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है : पेट मे दर्द होना हर किसी व्यक्ति के लिए आम बात है लेकिन नाभि के निचले हिस्से पर पेट दर्द होने के कई कारण होते हैं

पुरूष और महिलाओं में पेट के निचले हिस्से में दर्द क्या है और क्यों होता है उसके बारे में हम आपको इस लेख में बताएंगे।

आमतौर पर यह समस्या कई महिलाओं और पुरुषों को होती हैं ज्यादातर पाचन शक्ति कमजोर होने के कारण भी होती हैं तो दूसरे कारण भी कही हो सकते है।

अगर आपको अपने शरीर के किसी अन्य हिस्सों में किसी प्रकार का दर्द होता है तो उसे आपको ज्यादा तकलीफ नही होती लेकिन अगर पेट के निचले हिस्से में यानीके नाभि के नीचे आपको दर्द होता है तो आपको उस दर्द के लिए दवाइयां लेना जरूरी हो जाता है।

क्योंकि पेट के दर्द से व्यक्ति काफी तकलीफ़ों का सामना करता है जैसे कि परिवार के किसी भी सदस्य के साथ बात करना अच्छा नही लगता,भोजन भी नही कर सकते ऐसी कई समस्याएं पेट के दर्द के दौरान व्यक्ति को झेलनी पड़ती हैं।

 

अनुक्रम

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है

 

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है
Pet ke niche dard ho raha hai  kya karen in Hindi

 

पुरुषों के पेट दर्द के कारण

पुरुषों में ज्यादातर पेट दर्द होना आम बात है क्योंकि कई लोग ऑफिस में पूरा दिन काम करते  रहते है समय पर खाना नही होता और बिना समय खाना खाने से पाचन क्रिया में काफी फर्क पड़ता है

जिनके कारण पेट की समस्या भी हो सकती हैं हमने कई लोगों को देखा है जब वह ऑफिस के काम मे इतना व्यस्त होते है कि पानी तक पीना भूल जाते है और कम पानी पीते हैं

कही बार जब आप कम पानी पीते हैं तो आपके आत को पूरी मात्रा में पानी नही मिलता और आप अपने व्यस्त शेड्यूल में भागदौड़ के दौरान स्नायू के दर्द भी हो जाते है

स्नायुओं के दर्द आम है लेकिन हर बार स्नायुओं के दर्द होना जरूरी नही है। पुरुषों अक्सर भूखे पेट रहना समय पर खाना नही खाना और भोजन सही से पाचन नही होने के कारण पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण माना जाते है।

 

महिलाओं के पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण

महिलाओं को नाभि के नीचे दर्द होना यानीके पेट के निचले हिस्से में दर्द होना सामान्य समस्या नही होती हैं। हम सब जानते है महिलाओं को हर महीने पिरियड जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

इस पिरियड के दौरान अक्सर महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में काफी दर्द होता है और बाद में बिना इलाज ठीक हो जाता है, क्योंकि यह हर महिलाओं के लिए आम बात है।

लेकिन अगर महिला पीरियड में नही है और पेट मे दर्द होता है तो उसके लिए चिंता का विषय है

यह दर्द कही बार महिलाओं को इसीलिए होता है जब वह घर काम लगातार बैठकर करती हैं या कपड़े धोते वक्त ज्यादा समय बैठती है ऐसे कई कारण है इसके अलावा बहुत से लोग जानते है जब महिला गर्भवती होती हैं तो भी पेट मे दर्द होने का कारण हो सकता है।

 

पेट दर्द का इलाज करवाना बेहद है जरूरी

आजकल लोग इलाज़ समय पर नही करवाते है हमने अक्सर उन लोगों को देखा है जो काफी लापरवाह होते है जो समय पर किसी भी समस्या का इलाज नही करवाते हैं

लेकिन आपको बता दें पेट दर्द का इलाज करवाना बेहद जरूरी है क्योंकि अगर आप पेट का इलाज समय पर नही करवाते तो यह समस्या बढ़ सकती है और आपको लगातार पेट दर्द की समस्या से जूझना पड़ेगा।

अगर आपको लगातार पेट के निचले हिस्से में ऐसी समस्या होती हैं तो पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है उसके बारे मे जानना बेहद जरूरी होता है।

क्योंकि यह दर्द कब्ज, गु र्दे की पथरी, आंत की रुकावट जैसी कई समस्या हो सकती हैं। और डॉक्टर को दिखाना बेहद जरूरी है।

कही बार डॉक्टर ज्यादातर पेट दर्द के मरीजों को पेट की लेजर फोटो रिपोर्ट करवाने का सुजाव देते हैं जिससे पेट में हो रहे सटीक कारण की पहचान हो सके और पेट दर्द की समस्या का इलाज़ आसानी से कर सके।

 

कब्ज के कारण होती हैं पेट दर्द की समस्या

कब्ज के कारण पेट दर्द होना सामान्य है लेकिन इसका इलाज करवाना भी जरूरी है। तंदुरुस्त और ताजा भोजन नही लेने की वजह है कब्ज की समस्या होती हैं

क्योंकि ऐसे भोजन आसानी से पेट मे पचते नही और पेट दर्द जैसी समस्य पैदा करती हैं। कभी कभी कब्ज की समस्या के कारण पेट की बड़ी बीमारी भी हो सकती हैं

जैसी की आंत का कैंसर, पाचन क्रिया में कमजोरी आना है जैसे कई समस्याएं हो सकती हैं इसीलिए सही डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

 

गर्भवस्था के दौरान पेट के निचले हिस्से में दर्द के उपाय

गर्भवती महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण आम बात है यह दर्द पहले मासिक से शुरू हो जाता है

महिला के गर्भवस्था के शुरुआती दिनों में काफी ज्यादा होता है,जब किसी भी शादीशुदा महिलाओं को पेट दर्द की समस्या हो तो उसे समय पर प्रेग्नेंसी टेस्ट करवाना चाहिए।

क्योंकि गर्भवस्था के पहले दिन से ही उसे सावधानियां बरतनी पड़ती है।

गर्भवती महिला को शरुआती दिनों में उल्टियां होती है जिसके कारण उसके पेट मे सख्त पानी की जरूरत होती है

और उल्टी के कारण उसके पेट मे पानी शरीर को जितना चाहिए उतना पानी नही रहता जिससे पेट की समस्या शरुआती दिनों में ज्यादा रहती हैं।

गर्भवती महिलाओं को कब और किस समय दर्द होता है उसके जानकारी नीचे दी गई हैं।

  • प्रेंग्नेंसी के कुछ ही दिनों में उल्टियां होती है और साथ धीरे धीरे पेट के निचले हिस्सो में दर्द होना शुरू हो जाता है
  • उल्टियां होने के बाद पेट दर्द होता है साथ सिरदर्द भी होता है।
  • गर्भवती महिलाओं को भूख ज्यादा लगती है अगर उसका पेट खाली रहता है और पेट मे पल रहे बच्चे के विकार होता तब पेट दर्द होना आम बात है।
  • गर्भवस्था के दौरान महिलाओं को गैस की समस्या ज्यादा होती है साथ ही एसिडिटी की समस्या भी बढ़ जाती है और अक्सर एसिडिटी के कारण पेट के निचले हिस्से में गर्भवती महिलाओं को दर्द होता है।
  • जब किसी महिला गर्भवती होती है तो उसके पेट मे कब्ज की समस्या ज्यादा रहती है पेट दर्द का दूसरा कारण कब्ज भी होता है

 

गर्भवस्था के दौरान महिलाओं को पेट दर्द का इलाज करवाना चाहिए

महिलाओं के पेट के निचले हिस्से में शरुआती दिनों में दर्द होना गर्भवस्था में आम बात है लेकिन कई महिलाएं समय पर प्रेंग्नेंसी टेस्ट नही करवाते और पेट दर्द को अनदेखा करते हैं

और गर्भवस्था में पेट दर्द कुछ समय के लिए होता है लेकिन जभी शादीसुदा महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में लगातार पेट दर्द की समस्या हो तो उसे इलाज करवाना बेहद जरूरी होता है

साथ ही प्रेग्नेंसी टेस्ट समय पर करवाना चाहिए वो इसीलिए जरूरी है कि पेट मे पल रहे बच्चे के सही वीकार की जानकारी महिलाओं को रहे और बच्चे के विकार के साथ साथ दवाईयां और इलाज होता रहे।

 

पेट के निचले हिस्से में दर्द के अन्य कारण

महिला और पुरुषों में पेट दर्द के अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे कि कई महिला और पुरूष को काम करते दौरान पेट मे झटका लगने से नाभि खिसकने से भी पेट दर्द हो सकता है

आपको बता दें नाभि खिसकने की समस्या महिला और पुरुषों में देखने को मिलते हैं उसका दर्द भी काफी परेशान करता है।

नाभि खिसकने की समस्या हर पुरूष और महिलाओं को नही होती लेकिन पेट दर्द का कारण होना भी संभव है

क्योंकि आप जब रास्ते मे चलते वक्त गड्ढे में पेट गिरने भी नाभि खिसक सकती है, इसके अलावा पेट मे अचानक झटका लगने से भी नाभि खिसकने ने की समस्या हो सकती है

अगर इसके उपचार की बात करे तो इसकी कोई दवाईयां बाजार में मौजूद नही है और ना ही किसी डॉक्टर नाभि खिसकने की समस्या को ठीक कर सकते है।

नाभि ठीक करने के लिए कई योगासन होते हैं और कहि घरेलू उपाय होते है जिससे नाभि खिसकने के समस्या ठीक हो सकती है।

महिला से अद्धितम समस्या पुरुषों में ज्यादा होती है। इसके अलावा आप जानना चाहते हैं पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है तो उसकी कुछ जानकारी हमने नीचे दे रखी है।

 

कब्ज

कब्ज की समस्या के कारण पेट के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है पेट मे कब्ज की समस्या हर किसी व्यक्ति को होती है | लेकिन कुछ लोगों को कब्ज की समस्या के कारण पेट दर्द जैसी समस्याएं होती है।

कब्ज ज्यादा खाने की वजह से होता है और कब्ज का दर्द खासतौर पेट मे होता है और कही बार पेट के निचले हिस्से में भी होता है अगर किसी को कब्ज की समस्या रहती है तो उसे इसका इलाज करवाना चाहिए क्योंकि इसके कारण पेट दर्द की समस्या लगातार होती रहती हैं।

 

नाभि खिसकना

नाभि खिसकने से पेट दर्द हो सकता है जो ज्यादातर पेट के निचले हिस्से में पेट दर्द होता है  यह समस्या पुरुष और महिला दोनों में होती है

इसका समान्य कारण है जभी कोई व्यक्ति अचानक खड़ा होता है, या पेट मे झटका लगता है तो नाभि खिसक जाती है जिसके कारण पेट मे दर्द होता है और जब तक नाभि अपनी जगह पर नही आती तब तक दर्द बंद नही होता कहि बार लोगों को नाभि खिसकने के कारण उल्टियां भी होती है टॉयलेट की समस्या भी होती हैं।

 

तीखा और तरीले भोजन

आज के समय मे लोग तरीले और तीख भोजन ज्यादा खाते हैं जिसके कारण कई बार पेट की समस्या होती है काफी लोगों को भोजन खाने से पेट की समस्या नही होती क्योंकि उसकी पाचन शक्ति काफी मजबूत होती हैं

और तरीले तीखे भोजन से कब्ज की समस्या नही होती लेकिन कुछ लोगों को तरीले और तीखे भोजन की एलर्जी होती है जो खुद को पता नही होता।  पेट के निचले हिस्से में पेट दर्द का कारण तरीले और तीखे भोजन हो सकते है।

 

समय पर टॉयलेट न जाना

समय पर टॉयलेट न जाने के कारण कहि बार नाभि के नीचे पेट दर्द होता है। कई लोग ट्रेवल करते हैं और समय पर टॉयलेट नही जाते जिसके कारण पेट साफ नही होता

और पेट दर्द की समस्या होती हैं। पूरे दिन में दो बाद पेट का साफ होने बेहद जरूरी होता है और पेट साथ तब होता है जब व्यक्ति समय पर टॉयलेट जाता है कई लोग काम के वक्त या कभी आउट डोर में टॉयलेट रोककर रखते हैं और इसके कारण पेट दर्द होता है।

 

गैस्ट्रोएंटेराइटिस

गैस्ट्रोएंटेराइटिस के कारण पेट की समस्या आम बात है गैस्ट्रोएंटेराइटिस का मतलब पेट का फ्लू जिसमे पेट के निचले हिस्से में काफी दर्द होता है और यह समस्या आपको दवाइयां लेने में मजबूर करती हैं।

पेट का फ्लू खाने की वजह से होता है और अन्य कारण भी हो सकते हैं जब आपको ज्यादा प्यास लगती है और आप जल्द से पानी पीते हो उस दौरान फ्लू की समस्या हो जाती है

एक बाद जरूर ध्यान में रखे कि जभी आपको ज्यादा प्यास लगे उस दौरान आपको भर पेट पानी नही पीना है बल्कि जरूरत से कम पानी पीना है इससे पेट के आंत प्रभावित नही होते और पेट में फ्लू जैसी समस्या नही होती।

 

पिरियड के दौरान

महिलाओं को पिरियड के दौरान नाभि के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है यह दर्द लगातार नही होता बल्कि पेट मे हो रहे विकार के दौरान अचानक पेट दर्द होना शुरू हो जाता है

पीरियड के दौरान महिलाओं को पेट दर्द नाभि के नीचे ज्यादातर होता है और पेट दर्द के अलावा सिरदर्द भी होना आम बात है लेकिन इस समस्या से महिलाओं के लिए बड़ी बात नही होती।

 

यूटीआई के कारण

कई महिलाओं को यूटीआई जैसी समस्या के कारण पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है यूटीआई ज्यादातर महिलाओं को होता है आपको बता दें यूटीआई का मतलब यह है कि महिलाओं को पेशाब के दौरान जलन होती है

पैशाब रुक कर आता है साथ ही पैशाब के दौरान खुजली होना ऐसी समस्या यूटीआई का कारण माना जाता है जभी किसी महिलाओं को यूटीआई समस्या होती है तो तुरंत डॉक्टर से इलाज करवाना चाहिए।

 

किडनी की पथरी

किडनी की पथरी के कारण पेट दर्द की समस्या हो सकती है आपको बता दें छोटे एमएम की पथरी आपके आंत को प्रभावित करती है

जिसके कारण पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है ऐसी समस्या पर डॉक्टर अक्सर मरीज़ के पैशाब का रिपोर्ट करवाता है जिससे किडनी की पथरी की पहचान हो सके।

 

गर्भवस्था के दौरान

किसी भी गर्भवती महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में दर्द होना आम बात है। यह दर्द तब होता है जब महिला प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिन होते हैं इसके अलावा लगातार होता रहता है

बच्चे का विकार जैसे जैसे पेट मे होते जाता है वैसे वैसे पेट दर्द बढ़ता जाता है शरुआती दिनों में गर्भवती महिला को पेट के निचले हिस्से में इसीलिए दर्द होता है क्योंकि प्रेग्नेंसी जो शुक्राण कण वो पेट के नीचे यानीके के नाभि के नीचे होता है

और धीरे धीरे बच्चे के रूप में उसका वीकार होता है इसीलिए पेट के निचले हिस्से में गर्भवती महिला को दर्द होता है। अगर दर्द ज्यादा होता है तो उसे नजरअंदाज किए बिना डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

 

आम दर्द से कितना अलग होता है गर्भवस्था का दर्द

पेट का आम दर्द कारण कुछ भी हो सकता है खाने से लेकर कब्ज और भी समस्या हो सकती है लेकिन आपको बता दें गर्भवस्था में होने वाला पेट दर्द आम पेट दर्द से काफी अलग होता है।

गर्भवस्था में महिलाओं को प्रेंग्नेंसी के शरुआती दिनों में होता है और शरुआती उल्टियां होती है दिन में दो बार उल्टियां होती है और बाद धीरे धीरे हल्का दर्द होना शुरू होता है।

गर्भवस्था में लगातार दर्द रहता है कभी बार गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर पीठ पर लेटे रहने का सुजाव देते हैं

जिससे कुछ समय के लिए पेट मे दर्द कम होता है लेकिन गर्भवस्था में होने वाला पेट दर्द लगातार नव महीनों तक चलता है कई महिलाओं को शुरुआती महीनों में दर्द होता है

और बाद में गर्भवस्था के आखरी दो महीनों में पेट दर्द होता है। आम दर्द की अगर बात करे तो महिलाओं को आम दर्द पीरियड के दौरान होता है और पेट दर्द के साथ साथ कमर दर्द सिरदर्द जैसी समस्या भी होती हैं।

दूसरे अगर आम दर्द की बात करे तो महिला पूरे दिन घर काम मे व्यस्त रहती हैं ठीक से खाना नही खाते साथ ही ज्यादा बैठे रहने से भी कभी बार पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण हो सकते है।

 

पेट के निचले हिस्से में दर्द बढ़ने पर क्या करना चाहिए

जभी आपको अचानक पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है तो सबसे पहले घर मे मौजूद चीजों से घरेलू उपाय करना चाहिए जैसे कि

गुनगुने पानी मे नींबू डालकर एक ग्लास पानी पीना चाहिए क्योंकि नींबू में ऐसे प्रोटीन मौजूद होते हैं तो शरीर मे होने वाले पेट के इंफेक्शन को जड़से खतम करता है।

साथ ही पेट दर्द के लिए नींबू काफी कारगर उपाय है। इसके अलावा अगर आपको पेट के निचले हिस्से में लगातार दर्द होता है और घरेलू उपाय के बावजूद ठीक नही होता है तो डॉक्टर को दिखाना बेहद जरूरी होता है

क्योंकि पेट मे कई तरह की समस्या हो सकती है जिसके कारण पेट दर्द होता है आपको बता दें पेट मे कई स्नायू, और आंत की नसें होती है जो हर रोज पेट को साफ रखने के लिए क्रिया करती है

और कही बार पेट की स्नायू के कारण भी पेट दर्द होता है लेकिन इसका इलाज घरेलू उपाय के बजाय डॉक्टर को दिखाना जरूरी होता जरूरी होता ।

हमारा पूरा शरीर पेट पर निर्भर है जब आपका पेट साफ और तंदुरुस्त हो तब आपकी जीवनशैली किसी भी तरह से प्रभावित नही होती है लेकिन जब पेट दर्द होता है तो आपके पूरे दिन के शेड्यूल में काफी बड़ा असर पड़ता है।

क्योंकि पेट दर्द के कारण आप ठीक से बैठ नही सकते, काम नही कर सकते और खाना भी पेट भर खा नही सकते। इसलिए जभी आपको ज्यादा पेट दर्द और लगातार पेट दर्द होता है तो डॉक्टर से इलाज जरूर करवाए।

 

गर्भवती महिला को पेट दर्द होने पर कब डॉक्टर को दिखाना बेहद जरूरी होता है

पुरूष और महिलाओं के पेट के निचले हिस्से में होने वाले दर्द के बारे में हमने आपको विस्तार से बताया कि लेकिन फिर भी कई महिलाएं ऐसी है जो उसे लगता है वह गर्भावस्था में है लेकिन उसे कब डॉक्टर को बताना चाहिए

और कैसी समस्या उसके लिए चिंता का विषय है। तो उसके लिए हमने नीचे कुछ कारण दिए हैं उनमें से किसी भी तरह की समस्या होती है गर्भवस्था के दौरान तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

  • लगातार पेट दर्द हो रहा है साथ में उल्टियां भी होने लगे उस अवस्था मे आपको डॉक्टर को देखना बेहद जरूरी है।
  • गर्भवस्था के आखरी महीनें में गुप्तांग से खून निकलने लगे उस समय तुरंत एम्बुलेंस को फोन करना चाहिए या करीबी डॉक्टर के पास जाना चाहिए।
  • पेट के निचले हिस्से में पेट दर्द और बुखार हो या सिरदर्द हो ऐसी एक साथ समस्या होने पर डॉक्टर को दिखाना उचित समय होता है।
  • गर्भवस्था में कमर दर्द,पेट दर्द और साथ शरीर मे ज्यादा कमजोरी महसूस होती हैं और ठीक से खाना नही खा रहे इस अवस्था मे डॉक्टर की सलाह सूचन लेना बेहद जरूरी होता है क्योंकि समय पर लिया गया इलाज ही फायदेमंद होता है।

 

गर्भावस्था में होने वाली इन पेट दर्द की समस्या से न हो लापरवाही

अक्सर महिलाओं को पता होता है वह गर्भवती हैं फिर भी वह हॉस्पिटल में अपना इलाज समय पर नही करवाती इससे बचें पर काफी गलत असर पड़ता है

गर्भवती होने का पता चलते हैं डॉक्टर को दिखाना चाहिए क्योंकि गर्भावस्था महिला के जीवन का एक ऐसा हिस्सा होता है तो अपने स्वास्थ्य के साथ साथ अपने पेट मे पल रहे बचें का भी खयाल रखना होता है

इस वजह से समय पर प्रेंग्नेंसी टेस्ट होना और गर्भवस्था के आखरी महीने तक डॉक्टर के सुजाव के साथ साथ इलाज करवाना जरूरी होता है।

और गर्भवस्था के दौरान होने वाले पेट दर्द की डॉक्टर दवाईयां तो नही देते बल्कि ऐसी उपाय बताते हैं जिसको ध्यान में रखने से पेट दर्द और बाकी गर्भवस्था के दौरान होनेवाली समस्या से कुछ देर तक राहत मिलती है। किसी भी महिला को गर्भवस्था के दौरान लापरवाही नही बरतनी चाहिए।

 

Conclusion

इस लेख में आपने पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है के बारें में जाना। आशा करते है आपको पेट के निचले हिस्से में दर्द के सामान्य कारण और इसे कैसे ठीक किया जाता है की पूरी जानकारी जान चुके होंगे।

आपको लगता है कि इसे दूसरे के साथ भी शेयर करना चाहिए तो इसे Social Media पर सबके साथ इसे शेयर अवश्य करें। शुरू से अंत तक इस Article को Read करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…

error: Content is protected !!