शुगर में कितनी रोटी खानी चाहिए | Sugar Me kitni Roti khana Chahiye

शुगर में कितनी रोटी खानी चाहिए – दुनिया में ऐसी बहुत सी बीमारियां हैं जिससे बहुत ही ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ता है, कोई बचपन से बीमारी की चपेट में होता है तो किसी को बुढ़ापे में बीमारी होती है

आज के इस आधुनिक युग में बहुत सी बीमारियों की दवा बन चुकी है परंतु ऐसे बहुत से लोग है जो दवा खाने के बाद भी बीमारी से बच नहीं पाते हैं

आज के इस आधुनिक युग में ऐसी बहुत सी बीमारियां है जिनकी दवा भी नहीं बनी है जैसे कि एचआईवी, गठिया, अस्थमा, इबोला आदि बीमारियों के नाम बहुत प्रचलित है 

शुगर भी एक ऐसी बीमारी है जिसका अभी तक कोई भी इलाज नहीं है लेकिन शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं

तो चलिए आज के इस आर्टिकल में हम सभी जानते हैं कि शुगर को कैसे कंट्रोल करें और डायबिटीज में कितनी रोटी खानी चाहिए

 

Sugar Me kitni Roti khana Chahiye
Sugar (diabetes) main kitni Roti khana Chahiye

 

अनुक्रम

शुगर में कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main kitni Roti khana Chahiye

शुगर जिसको हम सभी मधुमेह के नाम से भी जानते हैं कुछ लोग डायबिटीज के नाम से भी जानते हैं डायबिटीज का पूरा नाम डायबिटीज मेलिटस ( Diabetes Mellitus) है

शुगर आम तौर पर खराब जीवनशैली के कारण होती है क्योंकि जो लोग अपने खान-पान पर सही से ध्यान नहीं देते है अक्सर उन लोगों को शुगर की बीमारी जो जाती है

जब हमारे शरीर से हार्मोन इन्सुलिन ( एक ऐसा हार्मोन जो बीटा सेल्स के अंदर pancreas से निकलता है) हमारे शरीर से सही तरह से ताल-मेल नहीं बना पाता है तब भी शुगर जैसी बीमारी हो जाती है

जिस तरह से आज कल के लोगों का खान-पान है और खराब जीवनशैली है उसकी वजह से बहुत सी बीमारियों का सामना करना पड़ता है और उन्हीं में से एक बीमारी है जिसको हम सभी शुगर के नाम से जानते हैं

कहते हैं कि अगर शुगर से पीड़ित व्यक्ति अपने दिनचर्या और खान-पान को सही कर ले तो वह शुगर जैसी बीमारी को कंट्रोल में कर सकता है

लेकिन उसके लिए आपको ये भी ध्यान में रखना चाहिए कि शुगर पीड़ित व्यक्ति को क्या क्या खाना चाहिए

शुगर से पीड़ित व्यक्ति को एक दिन में 2 या 3 रोटी खानी चाहिए और रोटी को सब्जी के साथ खाए और याद रहे ऐसी सब्जी जिसमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा कम हो और जिसमे फाइबर की मात्रा भरपूर हो

ज्यादा रोटी खाने से बचे, ज्यादा रोटी खाने से आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है

औसतन एक रोटी में लगभग 2.6g प्रोटीन होता है, 15.7g कार्बोहाईड्रेट होता है, फाइबर भी लगभग 2.6g होता है और फैट की मात्रा 3.7g होती है

शुगर पीड़ित व्यक्ति एक दिन में 3 meals खा सकता है और सही समय पर भी खाना खाए

 

शुगर (डायबिटीज) में किस आटे की रोटी खानी चाहिए – Sugar main kis Aate ki Roti khana Chahiye

हमारी दुनिया में तो बहुत ही तरह का आटा मौजूद है जो भारत के घरों में आसानी से देखने को मिल जाता है

भारत देश के साथ-साथ ऐसे भी बहुत देश है जहां रोटी खाई जाती है बस अंतर सिर्फ इतना होता है कि रोटी को किसी और नाम से बुलाते हैं

आमतौर पर भारत में जब भी रोटी की बात आती है तो सबसे पहले गेहूं की रोटी का ही नाम लिया जाता है लेकिन जब बात शुगर से पीड़ित मरीजों की आती है

तब यहां पर यह फैसला किया जाता है कि शुगर पीड़ित मरीज को किस आटे की रोटी खानी चाहिए

  • राजगिरा के आटे की रोटी
  • ज्वार के आटे की रोटी
  • चने के आटे की रोटी
  • रागी के आटे की रोटी
  • जौ के आटे की रोटी
  • कुट्टू के आटे की रोटी
  • मल्टी ग्रेन के आटे की रोटी

आइये जानते है अलग अलग आटे की शुगर में कितनी रोटी खानी चाहिए 


शुगर में चने के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main Chane ki Roti khana Chahiye

शुगर के मरीज चने के आटे से बनी रोटी खा सकते हैं, इसके सेवन से शरीर में आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है क्योंकि चने के आटे में घुलनशील फाइबर अधिक मात्रा में होता है

जो शुगर पीड़ित व्यक्ति के शरीर में बढ़ रहे कोलेस्ट्रोल लेवल को कंट्रोल करने में मदद करता है

चने के आटे में बहुत ही कम मात्रा में ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जो शुगर से पीड़ित व्यक्तियों के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है

डॉक्टर्स के अनुसार शुगर पीड़ित मरीजों को अपने खाने पर अधिक ध्यान देना चाहिए

अगर शुगर पीड़ित व्यक्ति स्वस्थ आहार नहीं लेते हैं तो इससे शुगर स्तर नियंत्रण से बाहर चला जायेगा और इससे शुगर पीड़ित मरीज को बहुत ही ज्यादा परेशानी हो सकती है


शुगर में कुट्टू के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar Main Kattu ki Aate Roti khana Chahiye

शुगर पीड़ित मरीजों के लिए कुट्टू का आटा बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि कुट्टू का आटा शरीर के ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में बहुत ही ज्यादा मदद करता है

अनेकों शोध में भी ये पाया गया है कि कुट्टू का आटा शुगर को कंट्रोल कर सकता है

इसके साथ-साथ कुट्टू का आता हृदय के लिए भी मददगार साबित हुआ है और वजन घटाने के लिए भी आप कुट्टू के आटे की रोटी का सेवन कर सकते हैं

कुट्टू के आटे में अधिक मात्रा में फाइबर होता है जो वजन को भी कम करता है

कुट्टू के आटे का सेवन करने से पेट लंबे समय तक भरा रहता है और शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है जो कि एक शुगर पीड़ित मरीज के लिए बहुत ही ज्यादा अच्छी बात है

कुट्टू के आटे में विटामिन–B, आयरन, कैल्शियम, फॉलेट, जिंक, मैग्रीज, और फॉसफोरस अधिक मात्रा में होता है

कुट्टू की डायबिटीज में कितनी रोटी खानी चाहिए इस सवाल का जवाब तो आपको मिल ही गया होगा पर ध्यान रखे अति में कुछ भी अच्छा नही होता इसलिए अपने खान- पान पे पकड़ बनाए रखे


शुगर में ज्वार के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main Jwari  ki Aate Roti khana Chahiye

शुगर से पीड़ित मरीज अपनी डाइट में ज्वार का आटा शामिल कर सकते हैं क्योंकि शुगर से पीड़ित मरीजों के लिए ज्वार का आटा बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है 

ज्वार का आटा, शरीर में ब्लड शुगर लेवल को बढ़ने से रोकने में बहुत मदद करता है ज्वार में मिनरल्स, आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन–बी, फाइबर, और एंटी–ऑक्सिडेंट जैसे एंथोसायनिन और टैनिन का श्रोत है 

ज्वार का आटा एंटी-ऑक्सिडेंट इन्फेक्शन को भी कम करने में मदद करता है और शुगर से पीड़ित मरीजों के शरीर में होने वाली परेशानी को भी कम कर देता है

ज्वार का आटा शरीर के पाचन क्रिया को भी अच्छा करता है और साथ में बहुत सी बीमारियों से भी बचाता है पेट में होने वाली समस्या को भी दूर रखता है, ज्वार के आटे से शरीर की हड्डियां भी बहुत मजबूत हो जाती है 

ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के साथ-साथ शरीर की हड्डियां को भी मजबूत करता है

ज्वार के आटे से दांत भी बहुत मजबूत रहते हैं आमतौर पर छोटे गांव में ज्वार के बीज को पीस कर दांतों पर लगाया जाता है जिससे मसूड़ों का दर्द और दांत के दर्द से छुटकारा मिल जाता है


शुगर में राजगिरा के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main Rajgiri ke Aate Roti khana Chahiye

राजगिरा जिसको हम सभी रामदान के नाम से भी जानते हैं, राजगिरा डायबिटीज के मरीजों में ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में बहुत मदद करता है

राजगिरा का आटा ग्लूटेन-फ्री और प्रोटीन से भरपूर होता है इसीलिए डॉक्टर्स भी डायबिटीज के मरीजों को राजगिरा आटा खाने को कहते हैं

राजगिरा आटा में बहुत तरह से पोषक तत्व मौजूद होते हैं जिसमें प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट होता है और इसीलिए राजगिरा का आटा स्वस्थ के लिए लाभदायक होता है

राजगिरा आटे से पाचन क्रिया में भी सुधार आता है, यह शरीर के Blood Pressure और हड्डियों को भी मजबूत करता है और सबसे अहम बात, राजगिरा का आटा डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद करता है

दूसरे अनाजों की तुलना में राजगिरा में ज्यादा मात्रा में लाइसिन होता है

बताया जाता है कि डायबिटीज मरीजों के लिए फाइबर बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि यह शरीर में ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है और वजन बढ़ने से भी रोकता है

राजगिरा के आटे की वजह से पेट भी भरा हुआ महसूस होता है


शुगर में रागी के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main Ragi ki Aate Roti khana Chahiye

शुगर पीड़ित मरीजों के लिए राग के आटे की रोटी बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है क्योंकि रागी के आटे से शुगर कंट्रोल होता है

रागी आटे में भरपूर फाइबर होता है और ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड क्रेविंग को भी कम करता है

रागी के आटे की रोटी खाने से पाचन क्रिया की शक्ति भी बढ़ती है और पाचन क्रिया में गति भी प्रदान करता है

डॉक्टर्स भी शुगर के मरीजों को रागी के आटे की बनी रोटी खाने की सलाह देते हैं रागी के आटे की बनी रोटी से हमारे शरीर में भी बहुत ही ज्यादा फ़ायदा होता है

शुगर से पीड़ित मरीज अगर रागी के आटे से बनी रोटी खाते हैं तो इससे वह बहुत हद तक शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं क्योंकि रागी के आटे में बहुत तरह के न्यूट्रिएंट होते है

जो शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं रागी के आटे में अधिक मात्रा में फाइबर होता है  रागी के आटे से बनी रोटी खाने के बाद बहुत देर के बाद भूख लगती है


शुगर में मल्टी ग्रेन के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए  – Sugar main Multi Grain Aate ki Roti khana Chahiye

मल्टी ग्रेन के आटे की रोटी में बहुत प्रकार के न्यूट्रिएंट होते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखते हैं, मल्टी ग्रेन का सेवन करने से शरीर भी स्वस्थ रहता है और यह शरीर में शुगर लेवल को भी कंट्रोल करता है

शरीर में शुगर लेवल बढ़ता रहता है इसीलिए अगर शुगर लेवल को कंट्रोल करना है तो मल्टी ग्रेन के आटे की बनी रोटी खाएं इससे शुगर भी कंट्रोल में रहेगा और शरीर का पाचन क्रिया भी बहुत अच्छे से काम करेगा

डॉक्टर्स भी सलाह देते हैं कि जिस भोजन में कार्ब्स की मात्रा ज्यादा हो उस भोजन को खाने से बचे क्योंकि कार्ब्स शुगर लेवल को बढ़ाता है जो कि शुगर पीड़ित मरीज के लिए बहुत ही हानिकारक है

मल्टी ग्रेन के आटे में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जो पाचन को मजबूत करता है और कब्ज जैसी समस्या से आजाद करता है

जिन लोगों को अपना वजन कम करना है वह भी मल्टी ग्रेन के आटे का सेवन कर सकते हैं

मल्टी ग्रेन के आटे को बनाने के लिए ज्वार का आटा, गेहूं का आटा, रागी का आटा, बाजरा का आटा, प्याज, टमाटर, बेसन और अन्य मसालों से बनाया जाता है


शुगर में जौ के आटे की कितनी रोटी खानी चाहिए – Sugar main Jow ki Aate Roti khana Chahiye

शुगर से पीड़ित मरीजों के लिए जौ के आटे की रोटी बहुत ही ज्यादा लाभदायक है जौ, के आटे में साबुत अनाज के पोषक तत्व पाए जाते हैं और इस आटे में फाइबर भी अधिक मात्रा में मौजूद होता है

जिस प्रकार से ज्वार का आटा, चने का आटा, रागी के आटे से वजन कम होता है उसी प्रकार से जौ के आटे की रोटी खाने से भी वजन कम होता है

जौ के आटे से बनी रोटी खाने से ब्लड शुगर लेवल भी कंट्रोल में रहता है और जौ के आटे की रोटी शुगर से पीड़ित मरीजों के लिए बहुत ही लाभदायक है

शुगर के बारे में अगर जाने तो मालूम पड़ता है कि इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन (आईडीएफ) और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विश्व मधुमेह दिवस के दिन बताया था कि पूरी दुनिया में हर साल लगभग शुगर से 40 लाख से भी ज्यादा मौतें होती हैं

डायबिटीज ने रिकॉर्ड तो तब तोड़ा जब 2021 वर्ष में कोरोना के काल में लगभग 67 लाख लोग ने सिर्फ शुगर ( मधुमेह, डायबिटीज) की वजह से अपनी जान गवा दी थी

2021 के महामारी के चलते शुगर की वजह से 67 लाख से भी ज्यादा मौतें होने से ये अपने आप में एक रिकॉर्ड बन गया क्योंकि ऐसा पहली बार हुआ कि एक साल में इतने ज्यादा लोगों की मौत हुई हो

डायबिटीज जैसी बीमारी का अभी तक कोई भी इलाज नहीं मिला, लेकिन डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं जिससे डायबिटीज की वजह से शरीर के अंग खराब ना हों हमने जाना की जौ की शुगर (Diabetes) में कितनी रोटी खानी चाहिए

हम आपको बता दें कि हमारे देश भारत में ऐसी भी जगह है जहां शुगर से बीमार लोग अधिक देखने को मिलते हैं

 

  • इसमें से पहले नंबर पर आता है अपने देश के साथ में स्थित राज्य केरल, केरल राज्य में शुगर से पीड़ित व्यक्ति अधिक मात्रा में देखने को मिलते हैं
  • इसी के साथ में दूसरे नंबर पर तमिलनाडु आता है जहां केरल के बाद शुगर के मरीज सबसे ज्यादा देखे गए
  • तीसरे नंबर पर पंजाब आता है जहां पर भी शुगर से पीड़ित लोग अधिक नजर आते हैं

 

अगर आपका शुगर लेवल 200 से 300 एमजी/डीले है तो जितना जल्दी हो सके डॉक्टर से मिले, शुगर के कुछ लक्षण भी है जिससे पता लगा सकते हैं कि शुगर है कि नहीं

शुगर के लक्षण में थकान अधिक महसूस होती है, हाथ-पैर में दर्द और सूजन भी बहुत होता है इसीलिए अगर कभी भी आपके हाथ-पैर सूजने लगे तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करें


FAQs : शुगर (डायबिटीज) में कितनी रोटी खानी चाहिए

सवाल : डायबिटीज में कितनी रोटी खानी चाहिए?

शुगर में 2 या 3 रोटी पूरे दिन में खानी चाहिए

सवाल : शुगर के अन्य नाम कौन–कौन से है?

शुगर का अन्य नाम – डायबिटीज, मधुमेह, डायबिटीज मेलिटस ( Diabetes Mellitus) है

सवाल : शुगर में कौन–कौन सी रोटी खानी चाहिए?

  • राजगिरा के आटे की रोटी
  • ज्वार के आटे की रोटी
  • चने के आटे की रोटी
  • रागी के आटे की रोटी
  • जौ के आटे की रोटी
  • कुट्टू के आटे की रोटी
  • मल्टी ग्रेन के आटे की रोटी

सवाल : भारत देश में सबसे ज्यादा शुगर के पीड़ित लोग किस राज्य में देखने को मिलेंगे?

भारत देश में सबसे ज्यादा शुगर के पीड़ित लोग 3 जगह देखने को मिलते है

  • पहला – केरल
  • दूसरा – तमिल नाडु
  • तीसरा – पंजाब

Conclusion

आज हम सभी ने जाना कि शुगर में कितनी रोटी खानी चाहिए (Sugar main kis Aate ki Roti khana Chahiye) और ये भी जाना कि शुगर में कौन-कौन सी रोटी खानी चाहिए और साथ में ये भी जाना कि किस राज्य में सबसे ज्यादा शुगर से पीड़ित लोग मिलते हैं

हम आशा करते है कि आपको आज का ये आर्टिकल पसंद आया होगा हम समझते है कि जो जानकारी आप ढूंढने आए थे वह जानकारी आपको प्राप्त हो गई होगी अगर आपका कोई सुझाव हो तो आप अपना सुझाव comment box में बताइए और इसे Share भी करिए

error: Content is protected !!